Buxar की घटना पर बोले तेजस्वी यादव, हमने अपने लोगों को कहा है- पता करें क्या बात है?

Tejashwi Yadav
ANI
अभिनय आकाश । Jan 17, 2023 3:35PM
तेजस्वी यादव ने कहा कि बक्सर में मुआवजे को लेकर जो हुआ है उसमें एनटीपीसी के काम में भुगतान हुआ है। अभी वहां कोई पाइपलाइन बिछनी है उसको लेकर किसान मांग कर रहे हैं। हमने अपने लोगों को बोला है कि पता करें कि क्या बात है।

बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि पटना को स्वच्छ और सुंदर बनाने के लिए नगर निगम और विभाग, बिहार में जितने हमारे कार्यक्षेत्र हैं वहां स्वच्छता रखने का काम कर रहे हैं। 26 जनवरी से पहले ऐसे जगहों को साफ कर दिया जाएगा। तेजस्वी यादव ने कहा कि बक्सर में मुआवजे को लेकर जो हुआ है उसमें एनटीपीसी के काम में भुगतान हुआ है। अभी वहां कोई पाइपलाइन बिछनी है उसको लेकर किसान मांग कर रहे हैं। हमने अपने लोगों को बोला है कि पता करें कि क्या बात है। 

इसे भी पढ़ें: Bihar Politics: रामचरितमानस विवाद पर नीतीश ने तोड़ी चुप्पी, मंत्री को नसीहत देते हुए कहा- धर्म में हस्तक्षेप ठीक नहीं

गौरतलब है कि बक्सर जिले में चौसा में थर्मल पावर प्लांट स्थापित करने के लिए अधिग्रहित भूमि के बदले में मुआवजे की मांग कर रहे किसानों के साथ 11 जनवरी को हुई झड़प में दस पुलिसकर्मी घायल हो गए थे।  केंद्रीय मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता अश्विनी कुमार चौबे ने कहा कि वह नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली बिहार सरकार की कथित किसान और गरीब विरोधी नीतियों के खिलाफ ‘‘मौन उपवास’’ शुरू करने का ऐलान कर दिया है।  पटना में पत्रकारों से बात करते हुए केंद्रीय मंत्री ने आरोप लगाया, ‘‘बीते हफ्ते बक्सर के चौसा में जिस तरह सुरक्षाबलों ने किसानों को बेरहमी से पीटा, उसने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अमानवीय, किसान विरोधी और गरीब विरोधी चेहरे को बेनकाब कर दिया है।

इसे भी पढ़ें: बिहार में लग्जरी गंगा क्रूज जहाज के फंसने से सरकार का इनकार

लेकिन हाल के दिनों में नेताओं के बीच बयानबीजी से दोनों दल टकराव के रास्ते पर दिखाई दे रहे हैं। दोनों सत्ताधारी दलों के बीच टकराव की स्थिति को राज्य के शिक्षा मंत्री और राजद नेता चंद्रशेखर द्वारा ‘‘रामचरितमानस’’ के बारे में की गई विवादास्पद टिप्पणी से जोड़कर देखा जा रहा है। जदयू के कुछ नेताओं को चिंता है कि भाजपा राजनीतिक लाभ उठाने के लिए शिक्षा मंत्री की टिप्पणी को तूल देने की की कोशिश में लगी है। पूरे मामले पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तरफ से भी प्रतिक्रिया सामने आई। मीडिया से बात करते हुए सीएम नीतीश ने कहा कि धर्म के मामले में किसी को भी किसी भी तरह का हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। इस मामले पर उपमुख्यमंत्री ने भी साफ किया है। हमने मंत्री को (अपना बयान वापस लेने के लिए) बोल चुके हैं, अब हम उसके आगे क्या कहें? गठबंधन में किसी भी तरह की दिक़्कत नहीं है। 

अन्य न्यूज़