सबसे लंबे नदी पुल का उद्घाटन, नाम- भूपेन हजारिका पुल

मोदी ने देश के सबसे लंबे नदी पुल ढोला-सदिया सेतु का उद्घाटन किया। यह लोहित नदी के ऊपर बना है जिसका एक छोर अरुणाचल प्रदेश के ढोला में और दूसरा छोर असम के सदिया में पड़ता है।

सदिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश के सबसे लंबे नदी पुल ढोला-सदिया सेतु का उद्घाटन किया। यह लोहित नदी के ऊपर बना है जिसका एक छोर अरुणाचल प्रदेश के ढोला में और दूसरा छोर असम के सदिया में पड़ता है। असम में तिनसुकिया जिले के सदिया में 2,056 करोड़ रुपये की लागत से बने इस रणनीतिक पुल का उद्घाटन करने के बाद प्रधानमंत्री कुछ दूरी तक इस पर चले। इसके बाद प्रधानमंत्री, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, असम के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित, मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल तथा अन्य वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों को लेकर वाहन इस पुल के ऊपर से गुजरा।

यह सेतु 28.50 किलोमीटर लंबा है और मुंबई स्थित बांद्रा-वर्ली सी लिंक से 3.55 किलोमीटर अधिक लंबा है। इस पुल के बन जाने से सामरिक रूप से महत्वपूर्ण असम और अरुणाचल प्रदेश के बीच यात्रा करने में लगने वाले समय में चार घंटे की कमी आएगी। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार सीमावर्ती राज्य अरुणाचल प्रदेश तक सैनिकों और आर्टिलरी के त्वरित गमन की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए पुल को टैंकों के आवागमन के हिसाब से डिजाइन किया गया है।

बाद में एक समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि इस पुल का नाम असम की धरती के पुत्र भूपेन हजारिका के नाम पर होगा। उनकी इस घोषणा का लोगों ने तालियां बजाकर स्वागत किया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़