विदिशा के वायरल वीडियो का सच, बुजुर्ग ने कहा कोई शर्त नहीं लगी थी

विदिशा के वायरल वीडियो का सच, बुजुर्ग ने कहा कोई शर्त नहीं लगी थी

पन्नालाल कुशवाहा ने इस पर सफाई देते हुए और मीडिया से बात करते हुए कहा कि मुझे नाली का पानी पीने के लिए किसी ने भी मजबूर नहीं किया था। दरअसल नाली में एक सुपारी गिर गई थी। उसे उठाकर बुजुर्ग ने अपने पास रख लिया था। इस दौरान वहां मौजूद कुछ लोगों ने देख लिया है।

भोपाल। मध्य प्रदेश के विदिशा जिले से इन दिनों एक वीडियो सोशल मीडिया पर से वायरल है। इस वायरल वीडियो को देखें तो इसमें एक बुजुर्ग नाली का पानी पी रहा है। इसके साथ ही इस बाबत यह दावा भी किया जा रहा था कि महज दो हजार रुपये की शर्त को लेकर उक्त बुजुर्ग ने नाली का पानी पिया था।

वहीं जैसे ही वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तब से ही लोग पूर्व सरपंच के पति पर अनेकों सवाल उठा रहे थे। इसके साथ ही बुजुर्ग की मजबूरी पर सहानुभूति जता रहे थे। ये मामला विदिशा के आनंदपुर थाना क्षेत्र स्थित जावती गांव का बताया गया है। इस वायरल वीडियो सामने आने के बाद स्थानीय थानेदार से भी लोगों ने कई सवाल किए थे। इस पर उन्होंने कहा था कि मेरे पास कोई शिकायत नहीं दर्ज करवाई गई है।

इसे भी पढ़ें:बीजेपी ने लॉन्च किया संगठन ऐप, CM शिवराज समेत कई बड़े नेता रहे मौजूद 

आपको बता दें कि वायरल वीडियो पर बवाल होने पर 60 साल के पन्नालाल कुशवाहा ने इस पर सफाई देते हुए और मीडिया से बात करते हुए कहा कि मुझे नाली का पानी पीने के लिए किसी ने भी मजबूर नहीं किया था। दरअसल नाली में एक सुपारी गिर गई थी। उसे उठाकर बुजुर्ग ने अपने पास रख लिया था। इस दौरान वहां मौजूद कुछ लोगों ने देख लिया है। उन लोगों मजकिया लहजे में पूछा कि नाली में गिरे सुपारी का क्या करेंगे। इस पर पन्नालाल ने गुस्से में कहा कि मैं इसे खाऊंगा।

वहीं नाली में गिरी सुपारी को धोकर खाने की बात सुनकर लोगों ने पन्नालाल से कहा कि  क्या आप अब नाली का पानी भी पी जाएंगे। इस पर पन्नालाल ने कहा कि, तो इसमें बुराई क्या है। फिर उन्होंने अंजूरी से पानी लेकर नाली से पी लिया। तभी इसका वीडियो वहां मौजूद किसी शख्स ने तुरंत बना लिया। यही वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।