Monkeypox Cases in India | भारत में मंकीपॉक्स के तीसरे मामले की पुष्टि, यूएई रिटर्न 35 साल का शख्स हुआ पॉजिटिव

monkeypox
ANI
रेनू तिवारी । Jul 22, 2022 3:54PM
भारत में पहला मंकीपॉक्स का मामला केरल के कोल्लम से सामने आया था। रोगी एक व्यक्ति 12 जुलाई को संयुक्त अरब अमीरात से लौटा था। उसके नमूने परीक्षण के लिए एनआईवी पुणे भेजे गए और सकारात्मक आए। केरल के कन्नूर जिले में भारत में मंकीपॉक्स के दूसरे मामले की पुष्टि हुई।

भारत में मंकीपॉक्स के तीसरे मामले की पुष्टि केरल में हुई है, जुलाई की शुरुआत में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से लौटे 35 वर्षीय युवक को मंकीपॉक्स से संक्रमित पाया गया है। केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज ने बताया कि मलप्पुरम का रहने वाला युवक छह जुलाई को अपने गृह राज्य लौटा था और उसका तिरुवनंतपुरम के मंजेरी मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा है। जॉर्ज के मुताबिक, युवक की हालत स्थिर है। उन्होंने बताया कि संक्रमित के संपर्क में रहे लोगों पर करीबी नजर रखी जा रही है।

इसे भी पढ़ें: हनीमून पर गए थे कपल, होटल के बाथरूम में मिली महिला की खून से लथपथ डेड बॉडी, पति फरार

स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने कहा कि मलप्पुरम मूल निवासी छह जुलाई को दक्षिणी राज्य में आया था और वहां के मंजेरी मेडिकल कॉलेज में उसका इलाज चल रहा था। उन्होंने कहा कि उनकी स्वास्थ्य स्थिति स्थिर है। यह भारत का तीसरा मंकीपॉक्स का मामला है। इससे पहले के दो मामले केरल से भी सामने आए हैं।

इसे भी पढ़ें: 2012 में भी बीजेपी ने चला था 2022 सरीखा दांव, कांग्रेस मान जाती तो देश को उसी वक्त मिल सकता था पहला आदिवासी राष्ट्रपति

भारत में पहला मंकीपॉक्स का मामला केरल के कोल्लम से सामने आया था। रोगी एक व्यक्ति 12 जुलाई को संयुक्त अरब अमीरात से लौटा था। उसके नमूने परीक्षण के लिए एनआईवी पुणे भेजे गए और सकारात्मक आए। केरल के कन्नूर जिले में भारत में मंकीपॉक्स के दूसरे मामले की पुष्टि हुई। दुबई से लौटे 31 वर्षीय कन्नूर के मूल निवासी को मंकीपॉक्स के लक्षणों का पता चला था। मरीज 13 जुलाई को कन्नूर लौटा था और बाद में लक्षण विकसित हुए। 31 वर्षीय मरीज के सभी करीबी संपर्क फिलहाल निगरानी में हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, मंकीपॉक्स एक वायरल ज़ूनोसिस (जानवरों से मनुष्यों में प्रसारित होने वाला वायरस) है, जिसमें चेचक के रोगियों में अतीत में देखे गए लक्षणों के समान लक्षण होते हैं, हालांकि यह चिकित्सकीय रूप से कम गंभीर है। 1980 में चेचक के उन्मूलन और बाद में चेचक के टीकाकरण की समाप्ति के साथ, मंकीपॉक्स सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए सबसे महत्वपूर्ण ऑर्थोपॉक्सवायरस के रूप में उभरा है।

अन्य न्यूज़