सियासी ड्रामे के बीच संजय राउत को ED का समन, आदित्य ठाकरे बोले- ये राजनीति नहीं, सर्कस बन गया है

Aaditya Thackeray
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
महाराष्ट्र के मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि ये राजनीति नहीं है, ये अब सर्कस बन गया है। इसी बीच उन्होंने फ्लोर टेस्ट से जुड़े सवाल पर भी बयान दिया। उन्होंने कहा कि सबसे बड़ा टेस्ट यही है कि जो बागी हैं, जो भाग के गए हैं, जो खुद को बागी कह रहे हैं।

मुंबई। महाराष्ट्र में सियासी उठापटक के बीच प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शिवसेना सांसद एवं नेता संजय राउत को समन भेजा है। जिस पर महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने सोमवार को बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि ये राजनीति नहीं है, ये अब सर्कस बन गया है। दरअसल, शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे के बागी होने के बाद प्रदेश की सियासत में भूचाल आ गया। 

इसे भी पढ़ें: 'संजय राउत के कंधे से बंदूक चलाएंगे शरद पवार', बागी विधायक केसरकर बोले- हम नहीं होंगे समाप्त 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, महाराष्ट्र के मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि ये राजनीति नहीं है, ये अब सर्कस बन गया है। इसी बीच उन्होंने फ्लोर टेस्ट से जुड़े सवाल पर भी बयान दिया। उन्होंने कहा कि सबसे बड़ा टेस्ट यही है कि जो बागी हैं, जो भाग के गए हैं, जो खुद को बागी कह रहे हैं अगर बगावत करनी होती तो यहां करते, इस्तीफा देते और सामने चुनाव के लिए खड़े रहते।

ED समन पर क्या बोले राउत ?

शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि अगर घर में नोटिस आई होगी तो मैं देख लूंगा। जिस तरह की राजनीतिक हलचल महाराष्ट्र और देश में चल रही है, मुझे अंदेशा था कि मुझे और शिवसेना को रोकने के लिए महाराष्ट्र के खिलाफ कुछ लोग एक साथ आएंगे और मुझे और मेरे साथी को तकलीफ देंगे।

उन्होंने कहा कि लेकिन आप चाहे मुझे कितनी भी तकलीफ दीजिए, मैं गुवाहाटी नहीं जाऊंगा। मैं बालासाहेब की शिवसेना के साथ खड़ा रहूंगा और उनकी साख बचाने के लिए अंतिम सांस तक लड़ता रहूंगा। कल मेरी कई सभाएं हैं तो मैं उसके बाद ईडी से समय ले लूंगा लेकिन मैं ईडी के कार्यालय जरूर जाऊंगा। 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में 3 जुलाई को होगा बड़ा खेल, सभी बीजेपी नेताओं को मुंबई एयरपोर्ट पहुंचने के निर्देश 

शिवसेना सांसद ने कहा कि मैंने कल कहा था कि जितने भी लोग गुवाहाटी में हैं उनकी आत्मा मर गई है और जिनकी आत्मा मर जाती है उनका सिर्फ शरीर रह जाता है, उसका कोई फायदा नहीं होता है। ऐसे शरीर का यहां आने से क्या होगा, उनका तो सिर्फ पोस्टमार्टम होता है। लोग उनके विचारों का पोस्टमार्टम करते हैं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़