कुलगाम, पुलवामा जिलों में मुठभेड़ों में तीन आतंकवादी ढेर, एक सैनिक शहीद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2018   18:36
कुलगाम, पुलवामा जिलों में मुठभेड़ों में तीन आतंकवादी ढेर, एक सैनिक शहीद

उन्होंने बताया कि मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए और तीन जवान घायल हो गए। घायल जवानों में से एक की अस्पताल में मौत हो गयी। मृतक जवान की पहचान प्रकाश जाधव के तौर पर हुई है।

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के कुलगाम और पुलवामा जिलों में मंगलवार को दो अलग-अलग मुठभेड़ों में तीन आतंकवादी मारे गए और एक जवान शहीद हो गया। वहीं दो जवान घायल भी हुए हैं। कुलगामा मुठभेड़ में आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादी मारे गए। पुलवामा में मारे गए आतंकवादी का नाता आईएसआईएस से संबद्ध गिरोह ‘अंसार गजवतुल हिंद’ से था।पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि सुरक्षा बलों ने कुलगाम जिले के रेडवानी इलाके में आधी रात को घेराबंदी कर तलाश अभियान शुरू किया।

उन्होंने बताया कि इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया जानकारी मिलने के बाद यह अभियान शुरू किया गया था।अधिकारी ने बताया कि तलाश के दौरान आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलियां चलायीं जिसका सुरक्षा बलों ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए और तीन जवान घायल हो गए। घायल जवानों में से एक की अस्पताल में मौत हो गयी। मृतक जवान की पहचान प्रकाश जाधव के तौर पर हुई है।

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर मुठभेड़ में छह आतंकवादी ढेर, एक सैनिक भी शहीद

अधिकारी ने बताया कि मुठभेड़ स्थल से भारी मात्रा में गोला-बारूद आदि बरामद किए गए हैं। उन्होंने बताया कि कुलगाम में मारे गए आतंकवादियों की पहचान लश्कर-ए-तैयबा के एजाज अहमद मकरू और वारिस अहमद मलिक के तौर पर हुई है। पुलिस के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार मारे गए दोनों आतंकवादी सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर हमले और नागरिकों पर अत्याचार सहित आतंकवाद के कई कृत्यों में वांछित थे।’’

यह भी पढ़ें:  सुरक्षा बलों की बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा के छह आतंकियों को किया ढेर

उन्होंने बताया कि मकरू लश्कर-ए-तैयबा के सरगना नावेद जाट और आजाद दादा का करीबी था। उन्होंने बताया कि दूसरे अभियान में पुलवामा जिले के त्राल के हफू इलाके में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ में एक आतंकवादी मारा गया। प्रवक्ता ने बताया कि त्राल मुठभेड़ में मारे गए आतंकवादी की पहचान ‘अंसार गजवतुल हिंद’ के शकीर हसन डार के तौर पर हुई है। इस गिरोह का सरगना जाकिर मूसा है। उन्होंने बताया कि डार वर्ष 2015 से आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।