बाघिन टी-4 ने दिया पांच शावकों की जन्म, शावकों से गुलजार हुआ पेंच नेशनल पार्क

बाघिन टी-4 ने दिया पांच शावकों की जन्म, शावकों से गुलजार हुआ पेंच नेशनल पार्क
प्रतिरूप फोटो

टी-4 (पाटदेव) बाघिन ने पहले लिटर में वर्ष 2014 में 4 शावक, दूसरे लिटर में वर्ष 2017 में पुनः 4 शावक एवं तीसरे लिटर में वर्ष 2019 में 3 शावक को जन्म दिया था। वहीं टी-4 बाघिन ने चौथे लिटर में 5 शावक को जन्म दिया है जो अब 6 माह के हो गये हैं

सिवनी। मध्य प्रदेश के विश्व विख्यात पेंच नेशनल पार्क की काॅलर वाली बाघिन टी-15 ने अपने जीवनकाल में 29 शावकों को जन्म देकर विश्व रिकार्ड बनाया है। उन्ही शावकों में से एक मादा शावक ने जो अब टी-4(पाटदेव)बाघिन के नाम से जानी जाती है, उसने चौथे लिटर के 5 शावकों को जन्म दिया है। इन शावकों की किलकारियों से पेंच नेशनल पार्क गुलजार हो गया है और पर्यटक इन शावकों को देखने के लिए उत्सुक हैं व पार्क खुलने का इंतजार कर रहे है। 

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में 1 जून से सरकारी कार्यालय आयेंगे 100 प्रतिशत अधिकारी और 50 फीसदी कर्मचारी

मुख्य वन संरक्षक व क्षेत्र संचालक विक्रम सिंह परिहार ने रविवार की शाम को जानकारी दी कि मध्यप्रदेश के सिवनी जिले में स्थित पेंच नेशनल पार्क में सर्वाधिक 29 शावको को जन्म देने वाली कालर वाली बाघिन (टी-15) ने विश्व रिकार्ड दर्ज किया है। टी-15 (काॅलरवाली बाघिन) ने अक्टूबर 2010 में तीसरे लिटर में पांच शावकों को जन्म दिया था। उन्हीं शावकों में से एक मादा शावक ने, जो अब टी-4 (पाटदेव) बाघिन के नाम से जानी जाती है, ने अपने चौथे लिटर में 30 नवम्बर 20 को 5 शावकों को जन्म दिया है। 

 

इसे भी पढ़ें: हनीट्रैप पेनड्राइव पर कमलनाथ का बड़ा बयान, कांग्रेस ने शिवराज सरकार पर लगाया आरोप

उन्होंने बताया कि टी-4 (पाटदेव) बाघिन ने पहले लिटर में वर्ष 2014 में 4 शावक, दूसरे लिटर में वर्ष 2017 में पुनः 4 शावक एवं तीसरे लिटर में  वर्ष 2019 में 3 शावक को जन्म दिया था। वहीं टी-4 बाघिन ने चौथे लिटर में 5 शावक को जन्म दिया है जो अब 6 माह के हो गये हैं एवं स्वस्थ हैं। टी-4 बाघिन अब तक कुल 16 शावकों को जन्म दे चुकी है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।