समय रहते इलाज से अहमदाबाद में कोविड-19 से होने वाली मौतें कम हो सकती हैं: एएमसी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 29, 2020   20:05
समय रहते इलाज से अहमदाबाद में कोविड-19 से होने वाली मौतें कम हो सकती हैं: एएमसी

अहमदाबाद में कोविड-19 से एक दिन में 19 लोगों की मौत होने के एक दिन बाद बुधवार को अहमदाबाद नगर निगम ने कहा कि लक्षण सामने आने के बाद जल्द से जल्द मरीजों को अस्पताल में भर्ती करना महत्वपूर्ण है।

अहमदाबाद। अहमदाबाद में कोविड-19 से एक दिन में 19 लोगों की मौत होने के एक दिन बाद बुधवार को अहमदाबाद नगर निगम ने कहा कि लक्षण सामने आने के बाद जल्द से जल्द मरीजों को अस्पताल में भर्ती करना महत्वपूर्ण है। अहमदाबाद में अब तक संक्रमण के कुल 2,543 मामले आए हैं और संक्रमण से 128 लोगों की मौत हो चुकी है। शहर के छह वार्ड रेड जोन और 42 आरेंज जोन में हैं। नगरपालिका आयुक्त विजय नेहरा ने बुधवार को कहा, ‘‘शहर में एक दिन में 19 लोगों की मौत होना दुर्भाग्यपूर्ण है। यदि किसी व्यक्ति में कोविड-19 के लक्षण हैं तो उसे तुरंत नागरिक अस्पताल जाना चाहिए। अगर जान बचानी है तो समय रहते इलाज जरुरी है।”

इसे भी पढ़ें: लॉकडाउन में मनरेगा के तहत रोजगार देने में छत्तीसगढ़ सबसे आगे रहा: भूपेश बघेल

वरिष्ठ अधिकारी ने पहले ही कहा था कि अहमदाबाद में कोविड-19 से होने वाली मृत्यु दरअस्पतालों में रोगियों को भर्ती करने में हुई देरी के कारण अधिक है। अहमदाबाद में कोविड-19 की मृत्यु दर पांच प्रतिशत है जबकि देश में यह तीन प्रतिशत है। गुजरात में कोरोना वायरस से कुल 181 मौत दर्ज हुई हैं जिसका 70 प्रतिशत अकेले अहमदाबाद में दर्ज हुई हैं। वहीं राज्य में संक्रमण के 3,774 मामले दर्ज हुए हैं जिसमें से 67 प्रतिशत मरीज अकेले अहमदाबाद के हैं। इस बीच एक अन्य आदेश के अनुसार एक मई से दुकानदार और दुकान के कर्मचारी अगर बिना मास्क पहने पाए गये तोदुकान का लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा साथ ही 1000 रुपये से 5000 रुपये तक के जुर्माने का प्रावधान है। नेहरा ने बताया कि नियम का उल्लंघन करने वाले सुपर बाजारों के कर्मचारियों पर 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: प्रवासी मजदूरों की वापसी को लेकर मुख्यमंत्रियों से बातचीत कर रहा है महाराष्ट्र: अनिल देशमुख

उन्होंने कहा कि अगर नियम का उल्लंघन करते पाया जाता है तो विक्रेताओं और दुकानों के लाइसेंस तीन महीने के लिए निलंबित कर दिए जाएंगे। नेहरा ने लोगों के संपर्क में आने वाले सब्जी विक्रेताओं, किराना दुकानदारों, पेट्रोल पंप कर्मचारी और फार्मेसी पर काम करने वालों को ‘सुपर स्प्रेडर’ कहा। उन्होंने कहा, हमने शङर के 48 वार्डों में 7,793 लोगों की पहचान की है, जो ‘सुपर स्प्रेडर’ की श्रेणी में आते हैं। हमने 2,098 व्यक्तियों की जांच की है जिनमें से 115 संक्रमित पाए गए हैं।” उन्होंने कहा कि नागरिक निकाय आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति करने वाले विक्रेताओं और दुकान मालिकों को मास्क और सैनिटाइजर वितरित करेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।