प्रवासी मजदूरों की वापसी को लेकर मुख्यमंत्रियों से बातचीत कर रहा है महाराष्ट्र: अनिल देशमुख

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 29, 2020   19:07
प्रवासी मजदूरों की वापसी को लेकर मुख्यमंत्रियों से बातचीत कर रहा है महाराष्ट्र: अनिल देशमुख

राकांपा के मंत्री ने दोहराया कि राज्य सरकार कोविड-19 को काबू करने की कोशिशों में मदद कर रहे पुलिसकर्मियों, चिकित्सकों और नर्सों पर किसी प्रकार के हमले को कतई बर्दाश्त नहीं करेगी।

नासिक।  महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने बुधवार को कहा कि राज्य सरकार प्रवासी मजदूरों को नियोजित तरीके से उनके गृह राज्यों में भेजने का प्रबंध करने के लिए अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात कर रही है। महाराष्ट्र, खासकर मुंबई में अन्य राज्यों से आए हजारों कर्मी देशभर में लागू लॉकडाउन (बंद) के कारण फंसे हुए हैं और वे उन्हें उनके गृहराज्यों में भेजे जाने के लिए परिवहन व्यवस्था किए जाने की मांग कर रहे हैं। देशमुख ने कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे अन्य राज्यों के अपने समकक्षों के साथ बातचीत के बाद प्रवासी कर्मियों को वापस भेजने संबंधी अपनी फैसले की घोषणा करेंगे।

देशमुख ने अन्य राज्यों का नाम नहीं लिया, लेकिन महाराष्ट्र में उत्तर प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल समेत कई राज्यों से आए प्रवासी मजदूर रहते हैं। महाराष्ट्र में बड़ी संख्या में प्रवासी कर्मी रहते हैं। इनमें अधिकतर लोग मुंबई में रहते हैं। अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ इस विषय पर बात चल रही है कि प्रवासी श्रमिकों को नियोजित तरीके से बसों या ट्रेन के माध्यम से कैसे उनके मूल राज्यों में भेजा जा सकता है। राकांपा के मंत्री ने दोहराया कि राज्य सरकार कोविड-19 को काबू करने की कोशिशों में मदद कर रहे पुलिसकर्मियों, चिकित्सकों और नर्सों पर किसी प्रकार के हमले को कतई बर्दाश्त नहीं करेगी। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना योद्धाओं की सुरक्षा के लिए अध्यादेश लाने पर विचार कर रही योगी सरकार

उन्होंने कहा, ‘‘चौबीसों घंटे काम कर रहे पुलिसकर्मियों, चिकित्सकों और नर्सों पर हमला करने वालों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी।’’ इससे पहले, देशमुख ने नासिक जिले में कोविड-19 से सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्रों (हॉटस्पाट) में शामिल मालेगांव में इस महामारी को फैलने से रोकने को लेकर राज्य के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री छगन भुजबल, स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे और कृषि मंत्री दादा भुसे से बातचीत की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।