प्रशांत को लेकर राजद में दो फाड, बिहार कांग्रेस ने कहा- आलाकमान से विचार विमर्श करेंगे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 31, 2020   10:28
प्रशांत को लेकर राजद में दो फाड, बिहार कांग्रेस ने कहा- आलाकमान से विचार विमर्श करेंगे

तेजप्रताप ने कहा, ‘‘सार्वजनिक तौर पर खासकर मीडिया में इस तरह के बयान से उन्हें परहेज करना चाहिए।’’ उन्होंने कहा,‘‘ जगदानंद जी को मैं पिता तुल्य और अभिभावक मानता हूं पर उन्हें इस तरह का बयान नहीं देना चाहिए, यह गलत है।’’

पटना। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने कहा कि जदयू से निष्कासित प्रशांत किशोर यदि उनकी पार्टी में शामिल होना चाहते हैं तो उनका स्वागत है। यादव ने साथ ही किशोर पर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह की अमर्यादित टिप्पणी पर आपत्ति जताते हुए उन्हें सोच समझ कर बोलने का सुझाव दिया है।

इसे भी पढ़ें: बिहार चुनाव को लेकर फुल एक्टिव मोड में CM, विपक्ष से लड़ाई के लिए 1 अणे मार्ग पर नीतीश की पाठशाला

तेजप्रताप ने कहा, ‘‘सार्वजनिक तौर पर खासकर मीडिया में इस तरह के बयान से उन्हें परहेज करना चाहिए।’’

उन्होंने कहा,‘‘ जगदानंद जी को मैं पिता तुल्य और अभिभावक मानता हूं पर उन्हें इस तरह का बयान नहीं देना चाहिए, यह गलत है।’’

इसे भी पढ़ें: रघुवंश प्रसाद ने लालू को लिखा पत्र, चुनाव से पहले सामने आया पार्टी का अंदरुनी कलह

दरअसल जगदानंद ने जदयू की तुलना   नाली   से करते हुए कहा था  हम नहीं समझ पा रहे हैं। गंदी नाली से आप बाल्टी से पानी निकालोगे तो क्या उसे अपने रसोई घर या पीने के लिए प्रयोग करेंगे। हम नीतीश नहीं हैं कि संघ मुक्त भारत की बात करें और संघ की गोदी में चले जाएं। जिन्हें हम लोगों ने गंदा मान लिया सदा के लिए मान लिया। इसबीच कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा ने कहा ‘‘प्रशांत की पहचान एक चुनावी रणनीतिकार के रूप में है। जब चुनाव का समय आएगा और पार्टी के भीतर विचार होगा कि उनकी क्या उपयोगिता है तो उच्च स्तर :पार्टी आलाकमान: पर बात करेंगे।

CAA के खिलाफ शाहीन बाग में विरोध प्रदर्शन जारी, आम लोगों को हो रही परेशानी





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।