प्रतापगढ़ में देशी शराब का सेवन करने से दो मजदूरों की मौत, चार बीमार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   14:39
प्रतापगढ़ में देशी शराब का सेवन करने से दो मजदूरों की मौत, चार बीमार

प्रतापगढ़ जिले के थाना कोहड़ौर अंतर्गत चन्द्रभानपुर गांव में ईंट भट्ठे में काम करने वालेदो मजदूरों की कथित तौर पर ज़हरीली शराब पीने से मौत हो गई और चार लोग गंभीर रूप से बीमार हो गए।

प्रतापगढ़ (उप्र)। प्रतापगढ़ जिले के थाना कोहड़ौर अंतर्गत चन्द्रभानपुर गांव में ईंट भट्ठे में काम करने वालेदो मजदूरों की कथित तौर पर ज़हरीली शराब पीने से मौत हो गई और चार लोग गंभीर रूप से बीमार हो गए। अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी सुरेन्द्र द्विवेदी ने शुक्रवार को बताया कि “थाना कोहड़ौर क्षेत्र के चन्द्रभानपुर गाँव में मुन्ना पाण्डेय का ईंट भट्ठा है,जहां छत्तीसगढ़ और ओडिशा के मजदूर काम करते हैं। उन्होंने बताया कि बृहस्पतिवार सुबह मजदूर रोहित (35) की स्थिति बिगड़ने पर उसे स्थानीय चिकित्सालय ले जाया गया।

इसे भी पढ़ें: शिअद नेता मनजिंदर सिंह सिरसा का दावा, UP पुलिस ने उन्हें किया गिरफ्तार, ट्वीट कर दी जानकारी

उन्होंने बताया चिकित्सकों ने रोहित को जिला चिकित्सालय रेफर कर दिया ,जहां रास्ते में उसकी मौत हो गई और पुलिस को सूचित किए बिना प्रयागराज में उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया। उन्होंने कहा कि शाम को लैल (40), कंशु (60), उसकी पत्नी खंती (58), चिन्ताराम (55),बुधेसर (45)की स्थिति बिगड़ने पर उपचार हेतु उन्हें जिला चिकित्सालय ले जाया गया,जहां चिकित्सकों ने लैल को मृत घोषित कर दिया।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमित छह और व्यक्तियों की मौत, 195 नए मरीज

उन्होंने बताया कि पुलिस ने लैल के शव को पोस्ट्मॉर्टम के लिए कब्जे में लिया है, रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद ही मौत के कारणों का पता चल सकेगा। मृतक रोहित की पत्नी शिवानी का आरोप है कि उसके पति और लैल की मौत जहरीली शराब पीने से हुई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।