ब्लैक फंगस की दवा की कालाबाजारी के आरोप में दो लोग गिरफ्तार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 24, 2021   09:06
ब्लैक फंगस की दवा की कालाबाजारी के आरोप में दो लोग गिरफ्तार

गौतमबुद्ध नगर जिला पुलिस ने ब्लैक फंगस संक्रमण के इलाज में काम आने वाली इंजेक्शन की कालाबाजारी करने के आरोप में एक फार्मेसी के सुपरवाईजर सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया है।

नोएडा (उत्तर प्रदेश)। गौतमबुद्ध नगर जिला पुलिस ने ब्लैक फंगस संक्रमण के इलाज में काम आने वाली इंजेक्शन की कालाबाजारी करने के आरोप में एक फार्मेसी के सुपरवाईजर सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि आरोपियों के कब्जे से एम्फोटेरिसिन इंजेक्शन की दो शीशियां मिली हैं। अपर पुलिस उपायुक्त (जोन प्रथम) रणविजय सिंह ने बताया कि थाना सेक्टर 58 पुलिस ने प्राप्त सूचना के आधार पर रविवार को बुलंदशहर निवासी अनुराग कुमार और सेक्टर 122 निवासी अंकित भट्ट को गिरफ्तार किया।

इसे भी पढ़ें: ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार छत्रसाल हत्या मामले में गिरफ्तार, पुलिस कस्टडी में भेजा

अधिकारी ने कहा, ‘‘आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि वे ब्लैक फंगस और कोविड-19 के उपचार में काम आने वाले इंजेक्शन रेमडेसिवीर और एम्फोटेरिसिन इंजेक्शन ब्लैक में बेचते थे।’’ उन्होंने बताया कि एक निजी फार्मेसी में सुपरवाईजर के पद पर तैनात अनुराग फार्मेसियों और अन्य माध्यम से कम कीमत पर इंजेक्शन खरीदकर लाता था और उसे ब्लैक में बेच कर पैसे आपस में बांट लेते थे।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के एलएनजेपी और जीटीबी अस्पताल में ब्लैक फंगस 36 नए मामले सामने आए

अधिकारी ने बताया कि बरामद इंजेक्शन की कीमत 2000 रुपये से लेकर 3500 रुपये तक है, लेकिन आरोपी लोगों की मजबूरी का फायदा उठाकर इन्हें 15,000 हजार से लेकर 20,000 रुपये या उससे ज्यादा में बेचते थे। पुलिस इसम संबंध में आगे की कार्रवाई कर रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।