बोर्ड का पेपर बिगड़ने से तनाव में छात्रा ने उठाया खौफनाक कदम, अस्पताल में चल रहा है इलाज

बोर्ड का पेपर बिगड़ने से तनाव में छात्रा ने उठाया खौफनाक कदम, अस्पताल में चल रहा है इलाज

छात्रा ने हाथ की नस काटकर 40 फीट ऊंचे पुल से छलांग लगाई है। छात्रा की किस्मत अच्छी थी कि पुल से कूदते समय स्थानीय लोगों ने उसे देख लिया। और लोगों ने पुलिस की मदद से छात्रा का रेस्क्यू कर अस्पताल पहुंचाया।

भोपाल। मध्य प्रदेश में 12वीं बोर्ड परीक्षा लगातार जारी है। ऐसे में  पेपर बिगड़ने पर तनाव में छात्रा ने खौफनाक कदम उठा लिया है। छात्रा ने हाथ की नस काटकर 40 फीट ऊंचे पुल से छलांग लगाई है। छात्रा की किस्मत अच्छी थी कि पुल से कूदते समय स्थानीय लोगों ने उसे देख लिया। और लोगों ने पुलिस की मदद से छात्रा का रेस्क्यू कर अस्पताल पहुंचाया। छात्रा की हालत खतरे से बाहर है।

दरअसल कोरोना काल के बाद अचानक ऑफलाइन एग्जाम होने से छात्र कितने तनाव में है। इसका एक गंभीर उदाहरण रायसेन जिले शुक्रवार को देखने को मिला। देर रात भोपाल-रायसेन में बेतवा नदी के 40 फिट ऊंचे जाखा पुल से 12वीं की छात्रा ने पेपर बिगड़ने के कारण छलांग लगाकर आत्महत्या का प्रयास किया।

इसे भी पढ़ें:मेरी पॉलिसी मेरे हाथ योजना का होगा शुभारंभ, सीएम शिवराज और केंद्रीय कृषि मंत्री फसल बीमा पॉलिसी वितरण अभियान का इंदौर से करेंगे शुरुआत

जानकारी के मुताबिक छात्रा का नाम मुस्कान लोधी है। छात्रा पढ़ाई के लिए रायसेन के पटेल नगर में किराए के कमरे में रह रही थी। वह एक्सीलेंस स्कूल में 12वीं की छात्रा है। छात्रा इस साल 12वीं बोर्ड परीक्षा दे रही है। परीक्षा में पेपर बिगड़ने से वह भारी तनाव में थी।

चौकी सेंडोर के प्रभारी उप निरीक्षक राहुल भिड़े ने कहा की छात्रा कक्षा बारहवीं के लगातार पेपर बिगड़ने के कारण मानसिक तनाव में थी। इसलिए छात्रा ने यह कदम उठाया है। ऐसा छात्रा ने अपने पुलिस को दिए बयान में बताया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।