केन्द्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल ने कहा, केजरीवाल ने राष्ट्रध्वज का इस्तेमाल सजावट के लिये किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 28, 2021   15:59
केन्द्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल ने कहा, केजरीवाल ने राष्ट्रध्वज का इस्तेमाल  सजावट  के लिये किया

केन्द्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री प्रह्लाद पटेल ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर, टीवी पर प्रसारित होने वाले उनके मीडिया संबोधनों के दौरान राष्ट्रध्वज का इस्तेमाल सजावट के लिये करने का आरोप लगाया है।

नयी दिल्ली। केन्द्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री प्रह्लाद पटेल ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर, टीवी पर प्रसारित होने वाले उनके मीडिया संबोधनों के दौरान राष्ट्रध्वज का इस्तेमाल सजावट के लिये करने का आरोप लगाया है। पटेल ने केजरीवाल को लिखे पत्र में आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री की प्रेस ब्रीफिंग के दौरान उनके पीछेराष्ट्रध्वज दिखना ध्वज संहिता का उल्लंघन प्रतीत होता है। उन्होंने लिखा, ऐसा प्रतीत होता है कि राष्ट्रध्वज का सजावट के लिये इस्तेमाल किया गया। बीच में सफेद हिस्सा कम करके उसकी जगह हरे हिस्से को बढ़ा दिया गया, जो गृह मंत्रालय द्वारा निर्दिष्ट भारतीय ध्वज संहिता के प्रावधानों के अनुसार नहीं है।

इसे भी पढ़ें: टीके खराब होने को लेकर झूठ की राजनीति कर रही है भाजपा: अशोक गहलोत

पटेल ने लिखा, मुझे माननीय मुख्यमंत्री से जान-अनजाने ऐसा करने की अपेक्षा नहीं थी। पत्र की एक प्रति उपराज्यपाल अनिल बैजल को भी भेजी गई है। पटेल ने मुख्यमंत्री का ध्यान राष्ट्रीय सम्मान के अपमान की रोकथाम अधिनियम, 1971 की धारा 2(9) की ओर भी दिलाया, जिसमें कहा गया है कि वक्ता के मंच को सजाने के लिये ध्वज का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिये।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के पूर्व CM कमलनाथ बोले- भारत महान नहीं, भारत बदनाम है

उन्होंने कहा कि धारा 2.2 (1) में कहा गया है कि ध्वज की स्थिति सम्मानजनक होनी चाहिये। पटेल ने पत्र में लिखा, भारत का नागरिक और एक राज्य के मुख्यमंत्री के सम्मानित पद पर काबिज होने के नाते हर कोई आपसे राष्ट्रीय गौरव के प्रतीक तिरंगे के मान और गरिमा का सम्मान करने की अपेक्षा करता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।