चुनाव से पहले कितना बढ़ेगा सपा का कुनबा, चंद्रशेखर भी आएंगे अखिलेश के साथ?

चुनाव से पहले कितना बढ़ेगा सपा का कुनबा, चंद्रशेखर भी आएंगे अखिलेश के साथ?

समाजवादी पार्टी के चीफ अखिलेश यादव ने दावा किया है कि सहयोगी दलों के बीच सीट शेयरिंग को लेकर सहमति बन गई है। अखिलेश यादव के मुताबिक जल्द ही उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी हो सकती है। इसके साथ ही दावा किया जा रहा है कि 14 जनवरी को बीजेपी को बहुत बड़ा झटका लगने वाला है।

अखिलेश के बढ़ते सियासी कुनबे की तरफ से दनादन ऐलान हो रहे हैं और हर ऐलान में एक बात सबकी जुबान पर है। वो है 14 जनवरी, स्वामी प्रसाद मौर्य से लेकर ओम प्रकाश राजभर तक ये दावा कर रहे हैं कि 14 जनवरी को बड़ा ऐलान होगा। दावा है कि 14 जनवरी को बीजेपी को सबसे बड़ा झटका लगेगा। ये दावा अखिलेश यादव की अपने सहयोगी दलों से मुलाकात के बाद आया है। समाजवादी पार्टी के चीफ अखिलेश यादव ने दावा किया है कि सहयोगी दलों के बीच सीट शेयरिंग को लेकर सहमति बन गई है। अखिलेश यादव के मुताबिक जल्द ही उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी हो सकती है। इसके साथ ही दावा किया जा रहा है कि 14 जनवरी को बीजेपी को बहुत बड़ा झटका लगने वाला है। 

चंद्रशेखर दिलाएंगे दलित वोट? 

दलित नेता चंद्रशेखर भी अखिलेश यादव के साथ आ सकते हैं। दोनों के बीच बातचीत हुई है। चंद्रशेखर रावण जो अपने आप को दलितों का नया मसीहा बताते हैं और दावा करते हैं कि दलित बड़ी संख्या में अब उनके साथ हैं। वो और अखिलेश यादव एक साथ आ सकते हैं। सूत्रों का दावा है कि दोनों नेताओं में गठबंधन और सीट शेयरिंग को लेकर बातचीत आखिरी दौर में है। अखिलेश यादव के गठबंधन में अभी तक कोई दलित चेहरा नहीं शामिल था। जिसके बाद से ये सवाल उठाए जा रहे थे कि दलितों का वोट कैसे समाजवादी गठबंधन को प्राप्त होगा। हालांकि, चंद्रशेखर बार-बार ये कह रहे थे कि सम्मान जहां मिलेगा वहां जाएंगे। मायावती के साथ जाने की भी बात कही थी। लेकिन अब सपा के साथ उनकी सियासी खिचड़ी पकची हुई नजर आ रही है। 

इसे भी पढ़ें: पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, रालोद में शामिल हुए हापुड़ से 4 बार विधायक रहे गजराज सिंह

अखिलेश के सहयोगी कौन-कौन

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी

जनवादी पार्टी (सोशलिस्ट)

राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी)

अपना दल (कमेरावादी)

 प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया)

महान दल

टीएमसी 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।