उप्र विस चुनाव: पांचवें चरण के लिए आज शाम थम जाएगा प्रचार, 12 जिलों की 61 सीटों पर होगा मतदान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2022   15:50
उप्र विस चुनाव: पांचवें चरण के लिए आज शाम थम जाएगा प्रचार, 12 जिलों की 61 सीटों पर होगा मतदान

राज्‍य के मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी अजय कुमार शुक्ला ने बताया कि पांचवें चरण के चुनाव के लिए शुक्रवार शाम छह बजे के बाद से जनप्रतिनिधियों द्वारा किए जा रहे प्रचार-प्रसार पर प्रभावी रूप से रोक लग जायेगी और यह रोक पांचवें चरण का मतदान समाप्त होने तक अर्थात 48 घंटे तक प्रभावी रहेगी।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पांचवें चरण के लिए चुनाव प्रचार शुक्रवार शाम समाप्त हो जाएगा। इस चरण में 12 जिलों की 61 सीटों पर 27 फरवरी को मतदान होगा। राज्‍य के मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी अजय कुमार शुक्ला ने बताया कि पांचवें चरण के चुनाव के लिए शुक्रवार शाम छह बजे के बाद से जनप्रतिनिधियों द्वारा किए जा रहे प्रचार-प्रसार पर प्रभावी रूप से रोक लग जायेगी और यह रोक पांचवें चरण का मतदान समाप्त होने तक अर्थात 48 घंटे तक प्रभावी रहेगी। उन्होंने बताया कि पांचवें चरण के मतदान की तैयारी पूरी कर ली गई है और 27 फरवरी को स्वतंत्र, निष्पक्ष, पारदर्शी तरीके से मतदान सम्पन्न कराने के लिए आवश्यक व्यवस्था के निर्देश दिए गए हैं। जानकारी के अनुसार पांचवें चरण में 692 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं जिनकी राजनीतिक तकदीर का फैसला करीब 2.24 करोड़ मतदाता करेंगे।

इसे भी पढ़ें: अखिलेश यादव का दावा, चुनाव बाद भाजपा वाले और महंगा कर देंगे पेट्रोल-डीज़ल

मतदान सुबह सात बजे से सायं छह बजे तक होगा। पांचवें चरण में अमेठी, रायबरेली, सुलतानपुर, चित्रकूट, प्रतापगढ़, कौशांबी, प्रयागराज, बाराबंकी, अयोध्या, बहराइच, श्रावस्ती एवं गोंडा जिले के विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होगा। उल्लेखनीय है कि पांचवें चरण में उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य अपने गृह जिले कौशांबी के सिराथू विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के उम्मीदवार हैं जिनके मुकाबले समाजवादी पार्टी ने अपना दल (कमेरावादी) की नेता पल्लवी पटेल को मैदान में उतारा है। पल्लवी पटेल की बहन और केंद्र सरकार में मंत्री अनुप्रिया पटेल केशव प्रसाद मौर्य के पक्ष में चुनाव प्रचार कर रही हैं। इस चरण में अयोध्या से लेकर प्रयागराज और चित्रकूट जैसे धार्मिक क्षेत्रों में मतदान होना है।

इसे भी पढ़ें: तेलंगाना सरकार ने यूक्रेन में फंसे नागरिकों के लिये हेल्पलाइन स्थापित की, हेल्पलाइन पर आई 75 कॉल्स

अमेठी की पूर्व रियासत के मुखिया संजय सिंह अमेठी में इस बार भाजपा से उम्मीदवार हैं जबकि योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व की राज्‍य सरकार के मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ मोती सिंह प्रतापगढ़ जिले की पट्टी, खादी ग्रामोद्योग मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह प्रयागराज जिले की पश्चिम विधानसभा क्षेत्र, नागरिक उड्डयन मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी इसी जिले की दक्षिण, समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री गोंडा जिले की मनकापुर सुरक्षित और राज्यमंत्री चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय चित्रकूट विधानसभा क्षेत्र से तकदीर आजमा रहे हैं। वर्ष 1993 से ही प्रतापगढ़ जिले के कुंडा से चुनाव जीत रहे रघुराज प्रताप सिंह इस बार अपनी बनाई जनसत्ता पार्टी से परंपरागत सीट पर चुनाव मैदान में हैं। प्रतापगढ़ जिले में ही अपना दल (कमेरावादी) की अध्यक्ष कृष्णा पटेल समाजवादी गठबंधन के उम्मीदवार के रूप में भाजपा को टक्‍कर दे रही हैं। कृष्णा पटेल नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री अनुप्रिया पटेल की मां हैं। विधानसभा में कांग्रेस नेता आराधना मिश्रा उर्फ मोना भी प्रतापगढ़ जिले की रामपुर खास सीट से किस्मत आजमा रही हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...