अमेरिका खून के थक्के जमने के दुर्लभ खतरे के बावजूद जॉनसन कोविड टीकाकरण फिर शुरू करेगा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 24, 2021   10:23
अमेरिका खून के थक्के जमने के दुर्लभ खतरे के बावजूद जॉनसन कोविड टीकाकरण फिर शुरू करेगा

अमेरिकी स्वास्थ्य अधिकारियों ने जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी की एक खुराक के साथ कोविड-19 टीकाकरण पर लगाई गई 11 दिनों की रोक को हटा दिया है। वैज्ञानिक सलाहकारों ने पाया कि इसके फायदे खून के थक्के जमने के दुर्लभ खतरे से बहुत ज्यादा हैं। इसके बाद रोक हटाने का फैसला किया गया।

वाशिंगटन। अमेरिकी स्वास्थ्य अधिकारियों ने जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी की एक खुराक के साथ कोविड-19 टीकाकरण पर लगाई गई 11 दिनों की रोक को हटा दिया है। वैज्ञानिक सलाहकारों ने पाया कि इसके फायदे खून के थक्के जमने के दुर्लभ खतरे से बहुत ज्यादा हैं। इसके बाद रोक हटाने का फैसला किया गया। सरकार ने इस टीके के 80 लाख लाभार्थियों में से 15 ऐसे लोगों का पता लगाया जिनमें खून के थक्के जमने की बेहद दुर्लभ स्थिति उत्पन्न हुई। ये सभी महिलाएं थी जिनकी उम्र 50 वर्ष से कम थी। इनमें से तीन की मौत हो गई और सात को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

इसे भी पढ़ें: लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे होंगे सेना की पूर्वी कमान के नए कमांडर : सूत्र

लेकिन अंतत: शुक्रवार को, खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) और रोग नियंत्रण एवं बचाव केंद्र (सीडीसी) ने फैसला किया कि जॉनसन एंड जॉनसन का एक खुराक वाला टीका वैश्विक महामारी से लड़ने में अहम है। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि खून के थक्के जमने के इस छोटे से खतरे को चेतावनी देने के साथ ही लगाना चाहिए ताकि कम उम्र की महिलाएं फैसला ले सकें कि उन्हें यह टीका लगवाना है या कोई और विकल्प चुनना है।

इसे भी पढ़ें: पंजाब के अमृतसर के अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 5 मरीजों की मौत

सीडीसी के निदेशक डॉ रोशेल वालेंस्की ने एक बयान में कहा, “अन्य सभी चीजों से ऊपर, हमारे फैसले में स्वास्थ्य एवं सुरक्षा को सर्वोपरि रखा गया है” उन्होंने कहा, “हमारी टीका सुरक्षा प्रणाली काम कर रही है। हमने जे एंड जे टीके की लाखों खुराकों में से बेहद दुर्लभ घटनाएं देखी हैं और लगातार उन पर नजर रख रहे हैं।” अमेरिका का यह फैसला सीडीसी सलाहकारों के निष्कर्षों पर आया है जिन्होंने टीकाकरण फिर से शुरू करने के पक्ष में 10 मत डाले लेकिन विशेषज्ञों ने जोखिम की चेतावनी जारी करने को भी कहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।