पश्चिम बंगाल में क्यों हारी भाजपा पर व्याख्यान को विश्व भारती ने किया रद्द, जानिए पूरा मामला

पश्चिम बंगाल में क्यों हारी भाजपा पर व्याख्यान को विश्व भारती ने किया रद्द, जानिए पूरा मामला
प्रतिरूप फोटो

टीओआई में छपी एक खबर के मुताबिक,वीबी जो कि एक केंद्रीय विश्वविद्यालय है 18 मई को लैक्चर देने के लिए सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ डेवलपिंग सोसाइटीज (CSDS) के एक रिसर्च कार्यक्रम, लोकनीति के सह-निदेशक, संजय कुमार को आमंत्रित किया गया था।

विश्व भारती वेबसाइट पर मंगलवार को अपलोड किए गए एक लैक्चर की सूचना बुधवार दोपहर को सार्वजनिक डोमेन में रखे जाने के कुछ घंटों बाद हटा दी गई। बता दें कि इस लैक्चर का विषय था “भाजपा पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव जीतने में क्यों विफल रही”। टीओआई में छपी एक खबर के मुताबिक,वीबी जो कि एक केंद्रीय विश्वविद्यालय है 18 मई को लैक्चर देने के लिए सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ डेवलपिंग सोसाइटीज (CSDS) के एक रिसर्च कार्यक्रम, लोकनीति के सह-निदेशक, संजय कुमार को आमंत्रित किया गया था। इसकी अध्यक्षता उप-कुलपति बिद्या चक्रवर्ती करने वाली थी। इसके अलावा, ज़ूम मीटिंग के लिए जुड़ने का लिंक पब्लिक डोमेन में भी रखा गया था और पहली बार वीबी किसी अत्यधिक राजनीतिक विषय पर लैक्चर आयोजित करा रहा था। TOI  के मुताबिक, विश्वविद्यालय से किसी भी आधिकारिक स्पष्टीकरण के बिना लैक्चर का नोटिस VB के वेबसाइट हटा गया और लिखा कि, किसी परिस्थितियों के कारण लैक्चर को रद्दा कर दिया गया है।

इसे भी पढ़ें: UPSC Prelims परीक्षा 27 जून नहीं अब 10 अक्टूबर को होगी, महामारी चलते टाली गई डेट

 विश्वविद्यालय के कार्यकारी परिषद के प्रधानमंत्री दुलाल चंद्र घोष ने इस विषय को लेकर अपनी निराशा जताई और कहा कि, "विश्व भारती एक शिक्षा संस्थान है। विश्वविद्यालय आमतौर पर शिक्षा, समाज और अंतर्राष्ट्रीय मामलों पर लैक्चर आयोजित करता है। उन्होंने कहा कि, मुझे कोई कारण नहीं दिखता कि एक विश्वविद्यालय को एक राजनीतिक दल के चुनाव हारने या जीतने पर लैक्चर आयोजित करने की आवश्यकता क्यों पड़ी, इस तरह के विषय से भाजपा नेतृत्व भी सहज नहीं होगा। घोष ने आगे कहा कि, लैक्चर और स्पीकर के विषय पर निर्णय लेने के लिए एक विश्वविद्यालय समिति है। मुझे नहीं पता कि उस समिति में इस विषय पर चर्चा की गई थी या नहीं। घोष ने कहा कि मुझे लगता है कि सदस्यों को इस विषय पर एकमत नहीं होना चाहिए था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept