जम्मू कश्मीर में पंचायत चुनाव के चौथे चरण के लिए मंगलवार को मतदान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2018   20:19
जम्मू कश्मीर में पंचायत चुनाव के चौथे चरण के लिए मंगलवार को मतदान

उन्होंने कहा कि चौथे चरण में सरपंच की 339 सीटों और पंच की 1749 सीटों के लिए 5470 उम्मीदवार मैदान में हैं। इस चरण में 99 सरपंच और 969 पंच निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं।

जम्मू। जम्मू कश्मीर में पंचायत चुनाव के चौथे चरण के लिए मंगलवार को मतदान होगा और 2,618 मतदान केंद्रों पर लोग अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) शालीन काबरा ने कहा कि कश्मीर के 639 और जम्मू डिविजन के 1,979 मतदान केंद्रों पर सुबह आठ बजे मतदान शुरू होगा और दोपहर दो समाप्त हो जाएगा। सीईओ के मुताबिक, चौथे चरण के मतदान के लिए 777 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील श्रेणी में रखा गया है जिनमें कश्मीर के 571 और जम्मू के 206 मतदान केंद्र शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि चौथे चरण में सरपंच की 339 सीटों और पंच की 1749 सीटों के लिए 5470 उम्मीदवार मैदान में हैं। इस चरण में 99 सरपंच और 969 पंच निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं। इस चरण में 4,72,160 मतदाता सरपंच सीटों के लिए जबकि 3,32,502 वोटर पंच सीटों के लिए मतदान करेंगे। काबरा ने कहा कि पंचायत चुनाव के पहले चरण का मतदान 17 नवंबर को हुआ था जिसमें कुल 74.1 फीसदी मतदान हुआ था। कश्मीर में 64.5 प्रतिशत और जम्मू में 79.4 फीसदी मतदान हुआ था।

उन्होंने बताया कि दूसरे चरण का मतदान 20 नवंबर को हुआ था जिसमें कुल 71.1 प्रतिशत मतदान हुआ था। इस चरण में जम्मू में 80.4 प्रतिशत और कश्मीर में 52.2 फीसदी मतदान हुआ था। तीसरे चरण के चुनाव में कुल 75.2 फीसदी वोट पड़े थे जिसमें कश्मीर में 55.7 प्रतिशत और जम्मू में 83 फीसदी मतदान शामिल था। काबरा ने कहा कि सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) को तैनात किया गया है। सरकार ने उन इलाकों में छुट्टी घोषित की है जहां मंगलवार को मतदान होना है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।