भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने MSP के मुद्दे पर किसानों से की बात, बोले- चिंतन शिविर में उठाएंगे मुद्दा

भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने MSP के मुद्दे पर किसानों से की बात, बोले- चिंतन शिविर में उठाएंगे मुद्दा
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

कांग्रेस नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने किसानों के संदर्भ में कहा कि वे विरोध में एक साल से अधिक समय तक दिल्ली के आसपास बैठे रहे। सरकार को झुकना पड़ा। हमने उनसे मुलाकात की और कर्ज राहत, एमएसपी से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की। हम इस पर एक मसौदा तैयार करेंगे और इसे उदयपुर चिंतन शिविर में उठाएंगे।

नयी दिल्ली। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने एकबार फिर से किसानों के समर्थन में खुलकर अपना पक्ष रखा है। दरअसल, भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने किसानों से मुलाकात की। इस दौरान एमएसपी समेत कई मुद्दों पर चर्चा की। इसके बाद भूपेंद्र सिंह हुड्डा का बयान भी सामने आया। जिसमें उन्होंने किसानों के एक साल से अधिक समय तक दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर चले विरोध प्रदर्शन का जिक्र किया। 

इसे भी पढ़ें: किसानों से किए गए वादे अब तक नहीं हुए पूरे, MSP पर कानून बनाए सरकार: सत्यपाल मलिक 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने किसानों के संदर्भ में कहा कि वे विरोध में एक साल से अधिक समय तक दिल्ली के आसपास बैठे रहे। सरकार को झुकना पड़ा। हमने उनसे मुलाकात की और कर्ज राहत, एमएसपी से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की। हम इस पर एक मसौदा तैयार करेंगे और इसे उदयपुर चिंतन शिविर में उठाएंगे।

हाल ही में भूपेंद्र सिंह हुड्डा को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) द्वारा गठित कांग्रेस की किसान और कृषि समिति का संयोजक बनाया गया है। कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में भूपेंद्र सिंह हुड्डा की अध्यक्षता में कृषि से संबंधित कार्य समूह ने सभी फसलों के एमएसपी के लिए कानूनी गारंटी और निर्धारित दर से कम दाम पर फसल खरीदने वाले के लिए दंडनीय प्रावधान का सुझाव दिया था। समिति ने सुझाव दिया था कि फसलों का एमएसपी स्वामीनाथन समिति के सी-2 फॉर्मूले के अनुसार तय किया जाए। 

इसे भी पढ़ें: क्या खिचड़ी पका रहे किसान ? राकेश टिकैत समेत कई किसान नेताओं ने भूपेंद्र सिंह हुड्डा से की मुलाकात 

कांग्रेस का तीन दिवसीय चिंतन शिविर उदयपुर में आयोजित होगा। जिसमें देश भर के पार्टी नेता आंतरिक मुद्दों पर चर्चा करेंगे और संगठन को मजबूत बनाने के लिए समाधान सुझाएंगे। यह शिविर 13 से 15 मई तक चलेगा और इसमें पार्टी के करीब 400 शीर्ष नेताओं के शामिल होने की संभावना है, जो अलग-अलग मुद्दों पर अपनी राय रखेंगे और फिर साझा रणनीति बनाकर पार्टी को मजबूत करने के साथ-साथ सत्तारूढ़ भाजपा को घेरने की कोशिश करेंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।