किसानों से किए गए वादे अब तक नहीं हुए पूरे, MSP पर कानून बनाए सरकार: सत्यपाल मलिक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 9, 2022   16:19
किसानों से किए गए वादे अब तक नहीं हुए पूरे, MSP पर कानून बनाए सरकार: सत्यपाल मलिक
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि किसानों ने केवल दिल्ली में अपना धरना समाप्त किया है, लेकिन तीन विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ उनका आंदोलन अभी भी जीवित है। मलिक ने रविवार शाम यहां संवाददाताओं से कहा कि सरकार द्वारा किसानों से किए गए वादे पूरे नहीं हुए हैं।

मुजफ्फरनगर। मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि सरकार ने कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन को समाप्त कराने के लिए जो वादे किए थे उन्हें अभी तक पूरा नहीं किया गया है। राज्यपाल ने न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानून बनाने की वकालत की। मलिक ने कहा कि किसानों ने केवल दिल्ली में अपना धरना समाप्त किया है, लेकिन तीन विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ उनका आंदोलन अभी भी जीवित है। मलिक ने रविवार शाम यहां संवाददाताओं से कहा, सरकार द्वारा किसानों से किए गए वादे पूरे नहीं हुए हैं। सरकार को किसानों के मुद्दे को हल करने के लिए एमएसपी पर कानून बनाना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: क्या खिचड़ी पका रहे किसान ? राकेश टिकैत समेत कई किसान नेताओं ने भूपेंद्र सिंह हुड्डा से की मुलाकात 

उन्होंने कहा, किसानों ने केवल दिल्ली से अपना धरना समाप्त किया है लेकिन उनका आंदोलन अभी भी जीवित है। गौरतलब है कि किसानों ने एमएसपी समेत अन्य वादों को लेकर पिछले साल दिसंबर में अपना आंदोलन वापस ले लिया था। भारतीय किसान यूनियन और अन्य किसान नेताओं ने कहा था कि वे राष्ट्रीय राजधानी छोड़ रहे हैं, लेकिन अगर उनकी मांगें पूरी नहीं की गईं तो वे आंदोलन फिर से शुरू करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: तेलंगाना में क्या होगा टिकट बंटवारे का क्राइटेरिया ? राहुल गांधी ने कांग्रेस नेताओं को खुलकर दी इसकी जानकारी 

मलिक ने महंगाई और बेरोजगारी के मुद्दों पर भी चर्चा की और कहा, ‘‘ मुख्य मुद्दों के बजाय, अप्रासंगिक मामलों पर चर्चा हो रही है।’’ उन्होंने हिंदुओं और मुसलमानों से मिलकर रोजगार और ऐसे अन्य मामलों को उठाने के लिए कहा। मलिक बाघरा दरगाह भी गए और उन्होंने राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) और समाजवादी पार्टी (सपा) सहित कई दलों के नेताओं से मुलाकात की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।