गुजरात के स्वास्थ्य मंत्री का बड़ा दावा, कोरोना को हमने 99 फीसदी भगा दिया

गुजरात के स्वास्थ्य मंत्री का बड़ा दावा, कोरोना को हमने 99 फीसदी भगा दिया

गुजरात के स्वास्थ्य मंत्री ऋषिकेश पटेल ने कहा कि 100 करोड़ कोरोना वैक्सीनेशन का आंकड़ा पार करना भारत के लिए गौरवान्वित करने वाली बात है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार देश में वैक्सीनेशन के पात्र वयस्कों में से करीब 75 प्रतिशत लोगों को कम से कम एक डोज लग चुकी है।

नयी दिल्ली। गुजरात के स्वास्थ्य मंत्री ऋषिकेश पटेल ने देश में कोरोना वैक्सीन की अब तक दी गई डोज का आंकड़ा 100 करोड़ के पार पहुंचने पर देशवासियों को बधाई दी। इस दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना को हमने लगभग 99 फीसदी भगा दिया है। आपको बता दें कि भारत में 16 जनवरी से वैक्सीनेशन की शुरुआत हुई थी। जिसमें फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन की डोज दी गई थी। 

इसे भी पढ़ें: देश में कोरोना वैक्सीनेशन 100 करोड़ के पार, स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- वैक्सीन की उपलब्धता बढ़ने से आई तेजी 

इतिहास में दर्ज हुई आज की तारीख

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, गुजरात के स्वास्थ्य मंत्री ऋषिकेश पटेल ने कहा कि 100 करोड़ कोरोना वैक्सीनेशन का आंकड़ा पार करना भारत के लिए गौरवान्वित करने वाली बात है। आज हम गर्व से बोल सकते हैं कि कोरोना को हमने लगभग 99 प्रतिशत भगा दिया है... आज की तारीख़ इतिहास में दर्ज़ हो गई है और सालों तक इस तारीख़ को मनाया जाएगा।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार देश में वैक्सीनेशन के पात्र वयस्कों में से करीब 75 प्रतिशत लोगों को कम से कम एक डोज लग चुकी है, जबकि करीब 31 प्रतिशत लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी हैं।  

इसे भी पढ़ें: 100 करोड़ वैक्सीनेशन के जश्न में ऑडियो-वीडियो फिल्म लॉन्च, स्वास्थ्य मंत्री बोले- यह आत्मनिर्भर भारत की दिवाली है 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में वैक्सीनेशन अभियान शुरू होने के 85 दिन बाद तक 10 करोड़ डोज दी जा चुकी थीं, इसके 45 और दिन बाद भारत ने 20 करोड़ का आंकड़ा छुआ और उसके 29 दिन बाद यह संख्या 30 करोड़ पहुंच गई। देश को 30 करोड़ से 40 करोड़ तक पहुंचने में 24 दिन लगे और इसके 20 और दिन बाद छह अगस्त को देश में वैक्सीन की दी गई डोजों की संख्या बढ़कर 50 करोड़ पहुंच गई। इसके बाद उसे 100 करोड़ के आंकड़े तक पहुंचने में 76 दिन लगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।