• हमें अपनी पीढ़ी को इतिहास की घटनाएं याद दिलाना चाहिए : राज्यपाल आनंदीबेन पटेल

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने सोमवार को आजादी की लड़ाई के काकोरी कांड के वर्षगांठ के अवसर पर कहा कि हमें अपना इतिहास याद रखना चाहिए तथा अपनी पीढ़ी को ऐसी घटनायें याद दिलाना चाहिये, ताकि वे संस्कारवान बन सकें।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने सोमवार को आजादी की लड़ाई के काकोरी कांड के वर्षगांठ के अवसर पर कहा कि हमें अपना इतिहास याद रखना चाहिए तथा अपनी पीढ़ी को ऐसी घटनायें याद दिलाना चाहिये, ताकि वे संस्कारवान बन सकें। पटेल ने सोमवार को काकोरी शहीद स्मारक, लखनऊ में वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए आयोजित समारोह को बतौर मुख्‍य अतिथि संबोधित करते हुए कहा,‘‘आज की इस ऐतिहासिक घटना का साक्षी होना मेरे लिये गौरव की बात है, यह मेरे लिये एक यादगार पल है।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश की प्रमुख खबरें--मुख्यमंत्री ने ‘वनटाइम सैटलमेंट पाॅलिसी’ पुस्तिका जारी की

पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्‍यक्ष स्‍वतंत्र देव सिंह के साथ साथ राज्‍य सरकार के कई मंत्रियों ने सोमवार को आजादी के अमृत महोत्सव एवं चौरी-चौरा शताब्दी महोत्सव आयोजन की श्रृंखला में काकोरी एक्शन ट्रेन की वर्षगांठ के अवसर पर काकोरी शहीद स्मारक लखनऊ में वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर स्वतंत्रता संग्राम के शहीदों के परिजनों को सम्मानित किया गया तथा स्वतंत्रता संग्राम पर आधारित चित्र प्रदर्शनी लगायी गयी। गौरतलब है कि काकोरी कांड भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के क्रांतिकारियों द्वारा ब्रिटिश राज के विरूद्ध भयंकर युद्ध छेड़ने की इच्‍छा से हथियार खरीदने के लिए ट्रेन से जा रहे सरकारी खजाने को लूट लेने की एक ऐतिहासिक घटना है जो नौ अगस्‍त 1925 को घटी।

इसे भी पढ़ें: केवल 20 दिनों में सीखें ऑनलाइन संस्कृत बोलना और पढ़ना, देना होगा बस एक मिस्ड कॉल

इस मामले में क्रांतिकारी पंडित राम प्रसाद बिस्मिल, राजेंद्र नाथ लाहिड़ी, अशफाक उल्‍ला खां और ठाकुर रोशन सिंह को फांसी की सजा सुनाई गई थी। राज्‍यपाल ने काकोरी कांड के गौरव की याद दिलाते हुए कहा, बचपन में पढ़ाई के समय हमने स्वाधीनता संग्राम की घटना को पढ़ा था और आज यहां उपस्थित होकर मैं गर्व महसूस कर रही हूं। पटेल ने कहा, हमें अपना इतिहास याद रखना चाहिए तथा अपनी पीढ़ी को ऐसी घटनायें याद दिलाना चाहिये, ताकि वे संस्कारवान बन सकें। इस प्रकार की क्रांतिकारी घटनाओं के सम्बंध में हमारे स्कूलों में पढ़ाया जाना चाहिये, ताकि बच्चे अपने पूर्वजों का इतिहास जानें। राजभवन से जारी बयान के अनुसार पटेल ने कहा कि हमारे समाज में देश भक्ति की भावना धीरे-धीरे कम हो रही है, यह अत्यंत गम्भीर है। यही कारण है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तथा योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। समारोह में आदित्यनाथ ने कहा, आजादी का यह अमृत महोत्सव हमें प्रेरणा दे रहा है।

चौरी-चौरा से शुभारम्भ एवं वर्ष भर चलने वाले इस अमृत महोत्सव में आजादी के आंदोलन के शहीद अमर सेनानियों को नमन है। योगी ने कहा, आजादी का अमृत महोत्सव नये विचारों, संकल्पों तथा आत्मनिर्भरता का महोत्सव है। आज काकोरी शहीद स्मारक पर यह आयोजन स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों, क्रांतिवीरों तथा सैनिकों को समर्पित है, जिनके बलिदान से देश की आजादी के साथ-साथ हमारी सीमाएं सुरक्षित है, ऐसे अमर शहीदों को मेरा शत्-शत् नमन है। उन्होंने कहा कि क्रांतिकारियों की सभी घटनायें हमे इस बात की याद दिलाती है कि हम एकजुट होकर, जाति धर्म से ऊपर उठकर राष्ट्र धर्म से जुड़े और एक आत्मनिर्भर भारत का सपना साकार करें।