'ठाकरे के साथ है NCP का समर्थन', MVA संकट पर पवार ने कहा- पिछले 2.5 सालों में शिंदे को नहीं हुई कोई समस्या

Sharad Pawar
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि एकनाथ शिंदे और उनके साथ (गुवाहाटी) गए अन्य विधायकों ने एक नया गठबंधन बनाने की बात कही है, लेकिन एनसीपी और कांग्रेस की नीति हमारे द्वारा बनाई गई गठबंधन सरकार का समर्थन करने के लिए स्पष्ट है। महाविकास अघाड़ी सरकार (महाराष्ट्र में) है और हम इसका समर्थन जारी रखेंगे।

मुंबई। महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी सरकार पर संकट के बादल छाए हुए हैं और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे लगातार सरकार के साथ-साथ 'शिवसेना' को बचाने की कवायद में जुटे हुए हैं। इसी बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार का बयान सामने आया। जिसमें उन्होंने महाविकास अघाड़ी सरकार पर भरोसा जताया और समर्थन जारी रखने की बात कही। 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में राजनीतिक के साथ कानूनी लड़ाई भी हुई शुरू, सावंत ने कहा- बागियों ने डिप्टी स्पीकर को हटाने का दिया नोटिस 

उद्धव ठाकरे के साथ हैं शरद पवार

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि एकनाथ शिंदे और उनके साथ (गुवाहाटी) गए अन्य विधायकों ने एक नया गठबंधन बनाने की बात कही है, लेकिन एनसीपी और कांग्रेस की नीति हमारे द्वारा बनाई गई गठबंधन सरकार का समर्थन करने के लिए स्पष्ट है। महाविकास अघाड़ी सरकार (महाराष्ट्र में) है और हम इसका समर्थन जारी रखेंगे।

उन्होंने कहा कि एकनाथ शिंदे और अन्य विधायक सरकार में एनसीपी के साथ थे। पिछले 2.5 सालों में उन्हें कोई समस्या नहीं हुई। आज ही ऐसा क्यों हुआ ? यह सिर्फ एक बहाना है... हम अंतिम समय तक मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का समर्थन करेंगे। इससे पहले शरद पवार ने कहा था कि हमारी पार्टी का पूरा समर्थन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ है... मैं राष्ट्रपति चुनाव के लिए कल होने वाले नामांकन में यशवंत सिन्हा का साथ देने दिल्ली आया हूं। 

इसे भी पढ़ें: MVA संकट: उद्धव ठाकरे को लगा एक और झटका, शिंदे कैंप में शामिल हुए मंत्री उदय सामंत 

गौरतलब है कि एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना के बागी विधायकों के साथ कुछ निर्दलीय विधायकों ने गुवाहाटी के रेडिसन ब्लू होटल में अपना डेरा जमाया हुआ है। जहां पर आगे की लड़ाई के लिए लगातार बैठकें हो रही हैं। महाराष्ट्र विधान परिषद के चुनाव नतीजे सामने आने के बाद एकनाथ शिंदे कुछ विधायकों के साथ महाराष्ट्र से सूरत चले गए और फिर वहां से गुवाहाटी शिफ्ट हो गए, जहां पर उनके साथ कुछ और विधायक जुड़ गए।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़