MVA संकट: उद्धव ठाकरे को लगा एक और झटका, शिंदे कैंप में शामिल हुए मंत्री उदय सामंत

Uddhav Thackeray
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
महाराष्ट्र के उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत गुवाहाटी में मौजूद शिंदे कैंप में शामिल हो गए। वह शिंदे कैंप में शामिल होने वाले 8वें मंत्री हैं। बताया जा रहा है कि एकनाथ शिंदे के साथ 39 बागी विधायक और कई निर्दलीय विधायक मौजूद हैं।

मुंबई। महाराष्ट्र की सियासी लड़ाई थमने का नाम नहीं ले रही है। इसी बीच उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में महाविकास अघाड़ी सरकार को एक और झटका लगा है। आपको बता दें कि शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में बागी विधायकों ने गुवाहाटी के रेडिसन ब्लू होटल में डेरा जमाया हुआ है और उद्धव ठाकरे 'शिवसेना' को बचाने की कवायद में जुटे हुए हैं। 

इसे भी पढ़ें: 'असहमति को बर्दाश्त नहीं कर सकती भाजपा', भूपेश बघेल बोले- केंद्रीय एजेंसियों का कर रही भरपूर दुरुपयोग 

समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि महाराष्ट्र के उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत गुवाहाटी में मौजूद शिंदे कैंप में शामिल हो गए। वह शिंदे कैंप में शामिल होने वाले 8वें मंत्री हैं। बताया जा रहा है कि एकनाथ शिंदे के साथ 39 बागी विधायक और कई निर्दलीय विधायक मौजूद हैं। ऐसे में एकनाथ शिंदे होटल में बागी विधायकों के साथ एक अहम बैठक करने वाले हैं।

कहा जा रहा है कि इस बैठक में भविष्य की रणनीति तैयार हो सकती है। क्योंकि एकनाथ शिंदे को शिवसेना विधायक दल के नेता के पद से हटाने के डिप्टी स्पीकर के फैसले पर कानूनी राय ले सकते हैं और फिर बागी विधायक सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे।

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, एकनाथ शिंदे का कहना है कि डिप्टी स्पीकर को बागी विधायकों को नोटिस का जवाब देने के लिए कम से कम 7 दिन का समय देना चाहिए था लेकिन डिप्टी स्पीकर ने महज दो दिनों का समय दिया। 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी कोविड-19 संक्रमण से उबरने के बाद अस्पताल से घर लौटे 

बागी विधायकों को केंद्र ने दी सुरक्षा

आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने महाराष्ट्र के 15 बागी विधायकों को 'Y+' श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की है। समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि केंद्र सरकार ने शिवसेना के 15 बागी विधायकों को 'Y+' श्रेणी के सशस्त्र केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) सुरक्षा कवच प्रदान किया है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़