भाजपा युवा मोर्चा के सदस्य की हत्या के बाद कर्नाटक में तनाव, भारी मन से पत्नी ने कहा- किसी और के साथ नहीं होना चाहिए ऐसा

BJP Yuva Morcha
ANI Image
प्रवीण नेत्तर की पत्नी ने आरोपियों के खिलाफ सजा की मांग करते हुए कहा कि उनके पति के साथ जो कुछ भी हुआ है वो किसी और के साथ नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि आरोपियों को सजा मिलनी चाहिए। वे (पति) लंबे समय तक भाजपा के सदस्य रहे। वह पार्टी की तमाम गतिविधियां के दौरान मौजूद थे।

बेंगलुरु। भाजपा युवा मोर्चा के सदस्य प्रवीण नेत्तर की हत्या के बाद से कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले में कई स्थानों पर तनाव का माहौल है। प्रवीण नेत्तर ने उदयपुर में हुई कन्हैयालाल की हत्या के विरोध में सोशल मीडिया पोस्ट किया था। कर्नाटक पुलिस इस एंगल से भी मामले की जांच कर रही है। प्रवीण नेत्तर की हत्या के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हिंदुवादी संगठनों के कार्यकर्ता ने मौके पर पहुंचे भाजपा नेताओं के प्रति भी अपना गुस्सा जाहिर किया।

इसे भी पढ़ें: भाजपा के एक युवा नेता की हत्या, दक्षिण कन्नड़ जिले में विहिप ने किया बंद का आह्वान

इसी बीच प्रवीण नेत्तर की पत्नी का बयान सामने आया। उन्होंने भारी मन से कहा कि मुझे नहीं पता कि उन्हें क्यों मारा गया। हर दिन मैं उनके साथ थी, जब वो दुकान बंद करके घर आते थे, लेकिन कल मैं वहां पर नहीं थी। अगर मैं वहां होती तो ऐसा नहीं होता।

समाचार एजेंसी एएनआई के साथ बातचीत में प्रवीण नेत्तर की पत्नी ने आरोपियों के खिलाफ सजा की मांग करते हुए कहा कि उनके पति के साथ जो कुछ भी हुआ है वो किसी और के साथ नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि आरोपियों को सजा मिलनी चाहिए। वे (पति) लंबे समय तक भाजपा के सदस्य रहे। वह पार्टी की तमाम गतिविधियां के दौरान मौजूद थे।

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक में बीजेपी नेता की बेरहमी से हत्या, धारदार हथियार से बदमाशों ने किए कई वार, इलाके में जारी किया गया सुरक्षा अलर्ट 

हत्या के खिलाफ हिंदू संगठनों में रोष

आपको बता दें कि प्रवीण नेत्तर की हत्या के खिलाफ हिंदुवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया। मृतक के परिजनों से मिलने गए कर्नाटक प्रदेश भाजपा अध्यक्ष एवं स्थानीय सांसद नलिन कुमार कटील की कार को कार्यकर्ताओं ने रोक लिया। कार्यकर्ताओं ने उनकी कार को घेर लिया और यहां तक कि कुछ ने वाहन के पहियों से हवा निकालने और उसे पलटने की भी कोशिश की। मामले में न्याय की मांग कर रहे कार्यकर्ताओं की पुलिस के साथ भी बहस हुई।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़