मुंबई क्लाइमेट एक्शन प्लान क्या है और शहर को इसकी आवश्यकता क्यों है?

मुंबई क्लाइमेट एक्शन प्लान क्या है और शहर को इसकी आवश्यकता क्यों है?

शहर में मौसम की घटनाओं के कारण जलवायु परिवर्तन की चेतावनियों के बीच, सिविक बॉडी ने मुंबई जलवायु एक्शन प्लान (एमसीएपी) तैयार करना शुरू कर दिया है। क्लाइमेट एक्शन प्लान के तहत 6 सूत्री कार्यक्रम है जिनके आधार पर भविष्य का नियोजन होगा।

पिछले कई वर्षों से क्लाइमेट चेंज या जलवायु परिवर्तन सबसे चर्चित कीवर्ड की लिस्ट में बना है। दुनिया की आधी से अधिक समस्याओं की वजह। जलवायु परिवर्तन का सबसे बुरा प्रभाव मुंबई पर पड़ सकता है। यदि समय रहते हम सतर्क नहीं हुए, तो 2050 तक मुंबई के कोलाबा, सैंडहर्स्ट रोड, कालबादेवी व ग्रांट रोड एरिया का 70 प्रतिशत भाग पानी में डूब सकता है। वहीं सबसे पॉश कफ परेड का 80 प्रतिशत भाग पानी में समा सकता है। ये चेतावनी बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) के कमिश्नर इकबाल सिंह चहल ने दी है। इन चुनौतियों से निपटने के लिए बीएमसी मुंबई जलवायु कार्य योजना (एमसीएपी) का मसौदा तैयार कर रहा है। इसके लिए हाल में ही एक वेबसाइट लॉन्च किया गया है। यह योजना क्या है, और शहर को इसकी आवश्यकता क्यों है? मुंबई जलवायु परिवर्तन के प्रति कितना संवेदनशील है? इन तमाम सवालों के जवाब इस रिपोर्ट के जरिये आपको मिलेंगे।

मुंबई क्लाइमेट एक्शन प्लान क्या है?

शहर में मौसम की घटनाओं के कारण जलवायु परिवर्तन की चेतावनियों के बीच, सिविक बॉडी ने मुंबई जलवायु एक्शन प्लान (एमसीएपी) तैयार करना शुरू कर दिया है। क्लाइमेट एक्शन प्लान के तहत 6 सूत्री कार्यक्रम है जिनके आधार पर भविष्य का नियोजन होगा जिसके अंतर्गत वेस्ट मैनेजमेंट, अर्बन ग्रीनिंग, बायोडायवर्सिटी, अर्बन प्लैनिंग एंड वॉटर रिसोर्स मैनेजमेंट, ऊर्जा क्रियानमन, अच्छी गुणवत्ता की हवा सस्टेनेबल मोबिलिटी इन सभी कार्य योजनाओं के तहत काम करने की तैयारी है। फिलहाल योजना का खाका तैयार किया जा रहा है। शुक्रवार को एक वेबसाइट शुरू की गई जिसमें जलवायु एक्शन को लेकर नागरिकों और विशेषज्ञों से सुझाव और विचार मांगे गए। प्रविष्टियां 20 सितंबर तक स्वीकार की जाएंगी। संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन (COP26) सम्मेलन से पहले नवंबर तक योजना तैयार होने की उम्मीद है।

इसे भी पढ़ें: मुंबई इंडियंस के लिए अच्छी खबर, आईपीएल से पहले फॉर्म में लौटे किरॉन पोलार्ड

क्लाइमेट एक्शन प्लान की आवश्यकता क्यों?

वर्ल्ड रिसोर्स इंस्टीट्यूट (डब्ल्यूआरआई) इंडिया द्वारा मुंबई की भेद्यता मूल्यांकन पर किए गए एक अध्ययन के अनुसार, शहर को दो प्रमुख जलवायु चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा - तापमान में वृद्धि, और अत्यधिक बारिश की घटनाएं जो बाढ़ का कारण बनेंगी। शहर में 2007 के बाद तापमान में लगातार वृद्धि देखी गई है। इसके अलावा पिछले पांच वर्षों में तीव्र वर्षा और तूफान की घटनाओं में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (आईपीसीसी) की एक हालिया रिपोर्ट ने चेतावनी दी है कि मुंबई सहित कम से कम 12 भारतीय तटीय शहरों में जलवायु परिवर्तन के कारण अगले तीन दशकों में समुद्र में 0.1 मीटर से 0.3 मीटर की वृद्धि होगी। इससे पहले, फरवरी 2020 में, मैकिन्से इंडिया की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि 2050 तक, मुंबई में फ्लैश फ्लड की तीव्रता में 25 प्रतिशत की वृद्धि और समुद्र के स्तर में 0.5 मीटर की वृद्धि देखी जाएगी, जिससे 1 किमी के दायरे में रहने वाले दो से तीन मिलियन लोग प्रभावित होंगे। मुंबई की क्लाइमेट एक्शन प्लान इन जलवायु चुनौतियों का शमन और अनुकूलन कदमों के साथ लड़ने के लिए एक विजन निर्धारित करने और रणनीतियों को लागू करने में मदद करेगी। 

इसे भी पढ़ें: मुंबई में भारी बारिश से भूस्खलन और जलभराव, कई लोग घायल

मुंबई के लिए जलवायु चुनौतियां क्या हैं?

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के आंकड़ों के विश्लेषण के अनुसार, पिछले 50 वर्षों में हवा के तापमान में लगातार वृद्धि हुई है, रात के तापमान में असमान वृद्धि हुई है। रिपोर्ट में कहा गया है। अध्ययन के अनुसार, मुंबई में प्रति वर्ष औसतन 174 सतर्कता दिवस और 187 अत्यधिक सावधानी दिवस दर्ज किए जाते हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका की राष्ट्रीय मौसम सेवा द्वारा अपनाए गए दिशानिर्देशों के अनुसार, सावधानी के दिन वे होते हैं जहां तापमान 26-32 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है, जबकि अत्यधिक सावधानी वाला दिन तब होता है जब तापमान 32 और 42 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है। अधिकारियों ने कहा कि 35 डिग्री सेल्सियस से ऊपर का तापमान इंसान के सेहत और प्रोडक्टिविटी को प्रभावित कर सकता है। 2007 के बाद से, शहर में मुख्य रूप से कंक्रीटीकरण, हरित आवरण की कमी और आवास घनत्व के कारण तापमान में लगातार वृद्धि देखी गई है।

जलवायु चुनौतियों से निपटने के लिए बीएमसी की योजना क्या है?

जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के लिए, एमसीएपी निकट अवधि (2030), मध्यम अवधि (2040) और लंबी अवधि (2050) के लिए क्षेत्रों और खपत पैटर्न द्वारा ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में कमी पर ध्यान केंद्रित करेगा। अगले कुछ महीनों में, बीएमसी और डब्ल्यूआरआई इंडिया छह प्रमुख क्षेत्रों के लिए संगठनों और क्षेत्र के विशेषज्ञों से प्रतिक्रिया और सिफारिशें लेने के लिए हितधारकों के परामर्श की एक श्रृंखला आयोजित करेंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।