अपनों की महफिल में बेगाने क्यों हैं कन्हैया कुमार? सवाल कई पर अभी जवाब नहीं

  •  अंकित सिंह
  •  फरवरी 22, 2021   14:32
  • Like
अपनों की महफिल में बेगाने क्यों हैं कन्हैया कुमार? सवाल कई पर अभी जवाब नहीं

भले ही कारण जो भी रही हो, पर यह तो सच है कि उनकी अपनी पार्टी के नेताओं के साथ अनबन की खबरें लगातार आती रही है। यह विवाद उस समय सार्वजनिक हो गया जब कन्हैया के खिलाफ उनकी पार्टी ने निंदा प्रस्ताव पास कर दिया।

छात्र राजनीति से मुख्यधारा की राजनीति में आने वाले कन्हैया कुमार के लिए हाल फिलहाल में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है। कभी अपनी पार्टी और उसकी विचारधारा को लेकर सुर्खियों में रहने वाले कन्हैया आजकल अपनी ही पार्टी में हाशिए पर चल रहे हैं। आलम यह हो गया है कि कन्हैया का बार-बार अपनी ही पार्टी के नेताओं के साथ उनका विवाद होने लगा है। सवाल यही उठता है कि आखिर इस विवाद की जड़ क्या है? क्या कन्हैया खुद को पार्टी से भी बड़ा मानने लगे हैं? या कन्हैया कुमार के बढ़ते कद को लेकर पार्टी के अन्य नेता खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं? भले ही कारण जो भी रही हो, पर यह तो सच है कि उनकी अपनी पार्टी के नेताओं के साथ अनबन की खबरें लगातार आती रही है। यह विवाद उस समय सार्वजनिक हो गया जब कन्हैया के खिलाफ उनकी पार्टी ने निंदा प्रस्ताव पास कर दिया।

इसे भी पढ़ें: नीतीश के खास मंत्री से कन्हैया ने की मुलाकात, निंदा प्रस्ताव के बाद भाकपा से 'आजादी' लेकर जदयू में होंगे शामिल?

इन विवादों के बीच कन्हैया की जदयू नेताओं से मुलाकात आग में घी डालने का काम कर दिया। हालांकि जदयू और फिर कन्हैया कुमार की भी तरफ से इस बात को लेकर दावा किया गया कि यह मुलाकात राजनीतिक नहीं थी बल्कि क्षेत्र से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की गई थी। सीपीआई नेता डी राजा ने भी इस मुलाकात को सामान्य ही बताया। जेएनयू के छात्र आंदोलन से सुर्खियां बटोरने के बाद कन्हैया कुमार मुख्यधारा की राजनीति में आएं। अपनी पार्टी की ओर से लोकसभा चुनाव में बेगूसराय से मैदान में उतरे। हालांकि उन्हें भाजपा के वरिष्ठ नेता गिरिराज सिंह से करारी शिकस्त मिली। जब कन्हैया के खिलाफ पार्टी में निंदा प्रस्ताव आया तो उस समय यह कहा गया कि कन्हैया पार्टी के अंदर सिर्फ अपना प्रभुत्व चाहते हैं। बिहार विधानसभा चुनाव के समय भी पार्टी कार्यकर्ताओं से कन्हैया की तीखी बहस की खबर आई थी।

एक बात और है कि बिहार चुनाव में कन्हैया की पार्टी महागठबंधन का हिस्सा थी। लेकिन कन्हैया कभी चुनाव प्रचार में नहीं दिखे। इससे पहले कन्हैया लगातार अपनी पार्टी के लिए प्रचार प्रसार करते रहे हैं। कन्हैया का अपनी पार्टी से नाराजगी का आलम यह है कि उन्होंने अपनी ही पार्टी को कन्फ्यूजन पार्टी ऑफ इंडिया करार दिया। बिहार में गठबंधन धर्म के हिसाब से देखें तो सीपीआई के लिए कन्हैया कुमार कुछ ज्यादा फायदेमंद नहीं है। कन्हैया का आरजेडी के साथ अच्छा रिश्ता नहीं है। आरजेडी की ओर से भी कहीं ना कहीं यह संकेत भी दिया जा चुका है कन्हैया कुमार को लेकर उनकी पार्टी कभी भी सहज नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: कन्हैया की अपने एक सहयोगी से मुलाकात के बारे में नीतीश बोले, कोई राजनीतिक बात नहीं हुई है

इसका कारण यह भी है कि की आरजेडी को लगता है कि कहीं तेजस्वी यादव की तुलना में कन्हैया कुमार का कद बड़ा ना हो जाए। वहीं, कन्हैया कुमार की पार्टी की ओर से यह दावा किया गया कि वह लगातार आदेशों का उल्लंघन कर रहे थे और पार्टी के अंदर अपनी मनमानी कर रहे थे। पार्टी ने कहा कि झारखंड विधानसभा चुनाव में प्रचार करने के लिए भेजा जा रहा था तो उन्होंने इससे इनकार कर दिया। जब सीएए के खिलाफ आंदोलन चल रहा था तब कन्हैया लगातार बिहार में सक्रिय थे। लेकिन विधानसभा चुनाव के वक्त वह इससे दूर ही रहें। सवाल ये है कि आखिर कन्हैया का कद यहां से बढ़ेगा या घटेगा? क्या कन्हैया अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा के लिए किसी और पार्टी के शरण में तो नहीं जा रहे हैं? क्या भाजपा के ऊपर अतिरिक्त दबाव बनाने के लिए कहीं जदयू कन्हैया को अपने खेमे में तो लाने की कोशिश नहीं कर रही? सवाल कई हैं पर इसका जवाब सिर्फ कन्हैया ही दे सकते हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


मध्य प्रदेश में अब आदिम जाति कल्याण विभाग का नाम जनजातीय विभाग हुआ

  •  दिनेश शुक्ल
  •  मार्च 4, 2021   23:37
  • Like
मध्य प्रदेश में अब आदिम जाति कल्याण विभाग का नाम जनजातीय विभाग हुआ

वही जनजातीय कार्य विभाग ने जनजातीय क्षेत्रों में 8 विकास कार्यों के लिये एक करोड़ 20 लाख रूपये की मंजूरी दी है। यह कार्य सीधी एवं उमरिया जिले में मंजूर किये गये हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश राजपत्र में प्रकाशित सामान्य प्रशासन विभाग की अधिसूचना के आधार पर आदिम जाति कल्याण विभाग के स्थान पर विभाग का नाम बदलकर जनजातीय कार्य विभाग किया गया है। इस संबंध में आयुक्त जनजातीय कार्य ने प्रदेश के समस्त कमिश्नर, कलेक्टर और मुख्य कार्यपालन आधिकारी जिला पंचायत को परिवर्तित नाम से पत्र व्यवहार करने के निर्देश जारी किए है। विभाग के संभागीय उपायुक्त, सहायक आयुक्त और जिला संयोजक को भी परिवर्तित नाम से पत्र व्यवहार करने के निर्देंश जारी किये गये हैं।

 

इसे भी पढ़ें: रायसेन में खनिज विभाग ने रेत का अवैध परिवहन करते 5 ट्रेक्टर ट्राली पकड़े

वही जनजातीय कार्य विभाग ने जनजातीय क्षेत्रों में 8 विकास कार्यों के लिये एक करोड़ 20 लाख रूपये की मंजूरी दी है। यह कार्य सीधी एवं उमरिया जिले में मंजूर किये गये हैं। मंजूर किये गये कामों में सामुदायिक भवन निर्माण और हायर सेकेण्डरी स्कूल के बाउण्ड्री बाल के निर्माण कार्य प्रमुख हैं। विभाग ने निर्माण एजेंसियों को मंजूर कामों को गुणवत्ता के साथ नियत समय-सीमा में पूरा किये जाने के निर्देश दिये हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


रायसेन में खनिज विभाग ने रेत का अवैध परिवहन करते 5 ट्रेक्टर ट्राली पकड़े

  •  नीलेन्द्र मिश्रा
  •  मार्च 4, 2021   23:21
  • Like
रायसेन में खनिज विभाग ने रेत का अवैध परिवहन करते 5 ट्रेक्टर ट्राली पकड़े

वही गुरूवार को मध्य प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र के दौरान प्रदेश में अवैध रेत उत्खनन का मामला विपक्ष ने जोरशोर से उठाया। विपक्ष का आरोप है कि अधिकारियों और सरकार के संरक्षण में पूरे प्रदेश में अवैध रेत खनन का कारोबार चल रहा है।

रायसेन। मध्य प्रदेश के रायसेन जिले की नर्मदा नदी पर स्थित सतरावन रेत खदान से चोरी छिपे रेत खनन एवं परिवहन की सूचना पर कलेक्टर उमाशंकर भार्गव के निर्देश पर गुरुवार को 5 ट्रेक्टर ट्राली अवैध रेट परिवहन करते खनिज एवं पुलिस ने पकड़ी। जबकि मध्य प्रदेश विधानसभा में गुरूवार को सदन में विपक्ष ने प्रदेश में अवैध रेत उत्खनन को लेकर शिवराज सरकार को जमकर घेरा।

 

इसे भी पढ़ें: रेलवे प्लेटफॉर्म टिकट का मूल्य पांच गुना बढ़ा, आज से मिलेंगे ऑफलाइन टिकिट

खनिज अधिकारी आर के कैंथल एवं खनिज निरीक्षक राजीव कदम ने चोरी से अवैध रेत परिवहन करते पकड़े इन वाहनों पर एफआईआर भी दर्ज कराई एवं पकड़े  गए वाहनों को थाने में खड़ा करवाया गया। उल्लेखनीय है की एक दिन पहले भी एक पोकलेन्ड मशीन जप्त की गई थी। वही गुरूवार को मध्य प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र के दौरान प्रदेश में अवैध रेत उत्खनन का मामला विपक्ष ने जोरशोर से उठाया। विपक्ष का आरोप है कि अधिकारियों और सरकार के संरक्षण में पूरे प्रदेश में अवैध रेत खनन का कारोबार चल रहा है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


धनगर गायरी समाज ने जलाया सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का पुतला, मार्ग का नाम बदलने पर नाराजगी

  •  दिनेश शुक्ल
  •  मार्च 4, 2021   23:00
  • Like
धनगर गायरी समाज ने जलाया सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का पुतला, मार्ग का नाम बदलने पर नाराजगी

जिसके चलते समाजजनों ने गुरूवार को पूरे मध्य प्रदेश के साथ-साथ जिला मुख्यालय पर राज्यसभा सांसद सिंधिया पुतला जलाया और विरोध प्रदर्शन किया। जिसमें पुलिसकर्मियों के बीच जलते पुतले को लेकर खींचतान हुई।

मंदसौर। मध्य प्रदेश में धनगर गायरी समाज की राजमाता देवी अहिल्याबाई होलकर के नाम से न्यू टेकरी मार्ग इंदौर का नामकरण अब मध्य प्रदेश सरकार के पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया के दादा जी सागर सिंह सिसौदिया के नाम से होगा।जिसकी घोषणा गुना में एक सरकारी कार्यक्रम में स्वयं राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने की है। जिसको लेकर घोषणा करने के बाद पूरे मध्य प्रदेश में  धनगर गायरी समाज में आक्रोश व्याप्त है। 

 

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री चौहान ने जन्मदिन के एक दिन पहले की अपील, कैबिनेट मंत्रियों ने दी शुभकामनाएं

जिसके चलते समाजजनों ने गुरूवार को पूरे मध्य प्रदेश के साथ-साथ जिला मुख्यालय पर राज्यसभा सांसद सिंधिया पुतला जलाया और विरोध प्रदर्शन किया। जिसमें पुलिसकर्मियों के बीच जलते पुतले को लेकर खींचतान हुई। इस अवसर पर गायरी समाज के प्रदेश महासचिव समरथ धनगर, जिला अध्यक्ष कैलाश पाटोद, युवा जिला अध्यक्ष अनिल धनगर, देव सेना जिला अध्यक्ष सुरेश धनगर, जगदीश फौजी,  मल्हारगढ़ तहसील अध्यक्ष विशाल धनगर सहित बड़ी संख्या में समाज जन उपस्थित थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept