ममता बनर्जी को नंदीग्राम से 50 हजार वोटों से हराएगा भाजपा प्रत्याशी: शुभेंदु अधिकारी का दावा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 21, 2021   10:22
  • Like
ममता बनर्जी को नंदीग्राम से 50 हजार वोटों से हराएगा भाजपा प्रत्याशी: शुभेंदु अधिकारी का दावा

भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने कहा कि वाम मोर्चा की पिछली सरकार वर्तमान तृणमूल कांग्रेस सरकार से रोजगार देने समेत कई मायनों में बेहतर थी।

चंदननगर। भारतीय जनता पार्टी के नेता शुभेंदु अधिकारी ने बुधवार को कहा कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम से जो भी उम्मीदवार भाजपा से चुनाव लड़ेगा वह मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को कम से कम 50 हजार मतों से पराजित करने में कामयाब रहेगा। हुगली के चंदननगर में एक रोडशो का नेतृत्व करते हुए अधिकारी ने, जिले के लोगों से सिंगूर आंदोलन के लिए माफी मांगी जिससे टाटा मोटर्स को ऑटोमोबाइल फैक्टरी लगाने की योजना को रद्द करना पड़ा था। उन्होंने कहा कि वाम मोर्चा की पिछली सरकार वर्तमान तृणमूल कांग्रेस सरकार से रोजगार देने समेत कई मायनों में बेहतर थी। 

इसे भी पढ़ें: सांप्रदायिक रूप से बंटे नंदीग्राम में ममता बनर्जी-शुभेंदु अधिकारी का आमना-सामना 

अधिकारी ने कहा कि मुझे नहीं पता कि नंदीग्राम से भाजपा का उम्मीदवार कौन होगा। वह मैं भी हो सकता हूं या कोई और भी हो सकता है। लेकिन नंदीग्राम से भाजपा का जो भी प्रत्याशी होगा वह ममता बनर्जी को कम से कम 50 हजार मतों से हराएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


एंटीलिया केस की जांच NIA को सौंपने पर अनिल देशमुख का तंज, सुशांत सिंह मामले को लेकर कही ये बात

  •  अभिनय आकाश
  •  मार्च 8, 2021   18:26
  • Like
एंटीलिया केस की जांच NIA को सौंपने पर अनिल देशमुख का तंज, सुशांत  सिंह मामले को लेकर कही ये बात

अनिल देशमुख ने कहा कि अंबानी मामले की जांच महाराष्ट्र पुलिस, एटीएस बहुत अच्छे से कर रही थी लेकिन आज इसकी जांच एनआईए ने लिया है, जांच लेने का उनका अधिकार है लेकिन मनसुख हिरेन मामले की जांच और गाड़ी जो चोरी हुई उसकी जांच एटीएस कर रही है।

कारोबारी मुकेश अंबानी के घर के पास खड़ी कार में विस्फोटकों की  बरामदगी मामले की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी एनआईए करेगी। एनआईए द्वारा मामले में फिर से केस दर्ज किया जाएगा। वहीं मामले को लेकर महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख का बयान सामने आया है। अनिल देशमुख ने कहा कि अंबानी मामले की जांच महाराष्ट्र पुलिस, एटीएस बहुत अच्छे से कर रही थी लेकिन आज इसकी जांच एनआईए ने लिया है, जांच लेने का उनका अधिकार है लेकिन मनसुख हिरेन मामले की जांच और गाड़ी जो चोरी हुई उसकी जांच एटीएस कर रही है।

सुशांत मामले पर किया तंज

महाराष्ट् के गृह मंत्री ने मुकेश अंबानी के घर के पास बम विस्फोटक कार मामले पर कहा कि जांच एटीएस कर रही थी लेकिन आज इसकी जांच एनआईए ने लिया है। पहले भी सुशांत मामले की जांच मुंबई पुलिस बहुत अच्छे से कर रही थी लेकिन उसकी जांच बाद में सीबीआई ने लिया। लेकिन सीबीआई अभी तक ये नहीं बता पाई कि वो हत्या थी या आत्महत्या।

केंद्र को लगता है हमारे राज्य में कोई व्यवस्था नहीं

मामले पर राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि हमलोग दादरा नगर हवेली के सांसद मोहन डेलकर की मौत मामले की भी जांच कर रहे हैं लेकिन केंद्र को लगता है कि हमारे राज्य में कोई व्यवस्था ही नहीं है। उन्हें लगता है कि दूसरे राज्य के मामले सुलझाने की ताकत केवल उनमें है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


तृणमूल कांग्रेस को अलविदा कहने की लगी होड़ ! अब 5 विधायकों ने ली भाजपा की सदस्यता

  •  अनुराग गुप्ता
  •  मार्च 8, 2021   17:46
  • Like
तृणमूल कांग्रेस को अलविदा कहने की लगी होड़ ! अब 5 विधायकों ने ली भाजपा की सदस्यता

तृणमूल विधायक सोनाली गुहा, दीपेंदु बिस्वास, रवींद्रनाथ भट्टाचार्य, जटू लहिरी और सरला मुर्मू ने भाजपा का दामन थाम लिया है। इन नेताओं में सबसे चौंका देने वाला नाम सरला मुर्मू का है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर तृणमूल कांग्रेस से भाजपा में शामिल होने वाले नेताओं की छड़ी लगी हुई है। तृणमूल कांग्रेस विधायक सोनाली गुहा समेत पांच विधायकों ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है। बता दें कि इन नेताओं को प्रदेश भाजपा प्रमुख दिलीप घोष, नंदीग्राम से चुनाव लड़ रहे शुभेंदु अधिकारी और वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय की उपस्थिति में भाजपा में शामिल कराया गया। 

इसे भी पढ़ें: महिला दिवस पर ममता का दांव, भाजपा को घेरने के लिए निकाला 'पैदल मार्च' 

तृणमूल विधायक सोनाली गुहा, दीपेंदु बिस्वास, रवींद्रनाथ भट्टाचार्य, जटू लहिरी और सरला मुर्मू ने भाजपा का दामन थाम लिया है। इन नेताओं में सबसे चौंका देने वाला नाम सरला मुर्मू का है। बता दें कि तृणमूल कांग्रेस ने सरला मुर्मू को हबीबपुर से अपना उम्मीदवार बनाया था लेकिन बाद में उनके स्थान पर पार्टी ने दूसरे उम्मीदवार को खड़ा किया। इसके पीछे तर्क दिया जा रहा था कि सरला मुर्मू की तबीयत सही नहीं है। जबकि सरला मुर्मू को हबीबपुर से चुनाव लड़ना पसंद नहीं था। 

इसे भी पढ़ें: मोदी और शाह सबसे बड़े लुटेरे, परिवर्तन दिल्ली में होगा, बंगाल में नहीं: ममता 

टिकट नहीं मिलने भाजपा में आए भट्टाचार्य

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने 5 मार्च दिन शुक्रवार को दोपहर 2 बजे 291 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया। हालांकि उन्होंने 80 साल से अधिक उम्र के नेताओं को टिकट नहीं दिया। जिसके बाद रवींद्रनाथ भट्टाचार्य ने तृणमूल कांग्रेस को अलविदा कहा और भाजपा के साथ आ गए। आपको बता दें कि भट्टाचार्य सिंगूर से तृणमूल का प्रतिनिधित्व करते थे और वह ममता सरकार में मंत्री भी थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


सिंधिया को लेकर राहुल का छलका दर्द, बोले- कांग्रेस में होते तो एक दिन मुख्यमंत्री बन जाते

  •  अनुराग गुप्ता
  •  मार्च 8, 2021   17:16
  • Like
सिंधिया को लेकर राहुल का छलका दर्द, बोले- कांग्रेस में होते तो एक दिन मुख्यमंत्री बन जाते

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक राहुल गांधी ने कहा कि अगर सिंधिया ने अलग रास्ता नहीं चुना होता तो वह एक दिन मुख्यमंत्री जरूर बनते। लेकिन उन्होंने दूसरा रास्ता चुना है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का दर्द छलका है। राहुल गांधी ने यूथ कांग्रेस के एक कार्यक्रम में ज्योतिरादित्य सिंधिया का जिक्र करते हुए कहा कि कांग्रेस में जो निर्णायक भूमिका में थे, भाजपा में उन्हें पिछली सीट पर जगह मिल रही है। 

इसे भी पढ़ें: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर बोले राहुल गांधी, इतिहास रचने और भविष्य संवारने में सक्षम हैं महिलाएं 

राहुल का छलका दर्द

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक राहुल गांधी ने कहा कि अगर सिंधिया ने अलग रास्ता नहीं चुना होता तो वह एक दिन मुख्यमंत्री जरूर बनते। लेकिन उन्होंने दूसरा रास्ता चुना है। राहुल ने कांग्रेस संगठन के महत्व के विषय पर युवा कांग्रेस से बात करते हुए कहा कि सिंधिया के पास कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ काम कर संगठन को मजबूत बनाने का विकल्प था और मैंने उनसे कहा था कि आप एक दिन मुख्यमंत्री जरूर बनेंगे लेकिन उन्होंने दूसरा रास्ता चुना।

अपने सबसे अच्छे मित्र ज्योतिरादित्य सिंधिया के बारे में राहुल ने युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं से कहा कि आप लोग मेरे से लिखकर ले लीजिए कि वह वहां पर कभी मुख्यमंत्री नहीं बन पाएंगे। उन्हें वापस आना पड़ेगा। सूत्रों ने यह जानकारी दी। 

इसे भी पढ़ें: केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी पर साधा निशाना, कही यह अहम बात 

युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास ने ट्वीट कर जानकारी दी कि आज एक खास दिन है, युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय कार्यालय में हम सभी के नेता, देश की आवाज़ राहुल गांधी द्वारा भारतीय युवा कांग्रेस के सभी राष्ट्रीय पदाधिकारियों एवं प्रदेश अध्यक्षों का मार्गदर्शन किया गया। मैं युवा कांग्रेस के लाखों कार्यकर्ताओं की ओर से राहुल गांधी का धन्यवाद करता हूं।

इसे भी पढ़ें: किसान आंदोलन के 100 दिन होने पर राहुल ने कहा- तीनों कानून वापस लेने ही होंगे 

उल्लेखनीय है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस से भाजपा में शामिल हो जाने की वजह से मध्य प्रदेश की कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार गिर गई थी। क्योंकि सिंधिया के साथ उनके 22 समर्थक विधायकों ने भी पार्टी छोड़ दिया था। हालांकि बाद में कांग्रेस छोड़ने वाले विधायकों की संख्या में इजाफा हो गया था। जिसके बाद प्रदेश की 28 सीटों पर उपचुनाव हुआ था जिसमें भाजपा को 19 और कांग्रेस को 9 सीटें मिली थी और प्रदेश में एक बार फिर से शिवराज के नेतृत्व वाली सरकार बनी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept