संजय राउत ने योगी आदित्यनाथ के दावे को किया खारिज, कहा- जाते वक्त प्रवासियों ने की थी उद्धव ठाकरे की प्रशंसा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 25, 2020   17:44
संजय राउत ने योगी आदित्यनाथ के दावे को किया खारिज, कहा- जाते वक्त प्रवासियों ने की थी उद्धव ठाकरे की प्रशंसा

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दावा किया है कि हमने प्रवासी मजदूरों के साथ गलत व्यवहार किया। हम उन्हें प्रवासी मजदूरों की वीडियो क्लिप भेजेंगे जो महाराष्ट्र छोड़ते समय उद्धव ठाकरे की तारीफ कर रहे थे।

मुंबई। शिवसेना नेता संजय राउत ने महाराष्ट्र में प्रवासी मजदूरों से ‘‘अनुचित व्यवहार’’ के उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दावों को सोमवार को खारिज कर दिया और कहा कि सही बात यह है कि प्रवासियों ने लॉकडाउन के बीच महाराष्ट्र से जाते समय मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की प्रशंसा की थी। राउत ने कहा कि वह मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की तारीफ कर रहे प्रवासी मजदूरों के वीडियो आदित्यनाथ को भेजेंगे। राउत ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दावा किया है कि हमने प्रवासी मजदूरों के साथ गलत व्यवहार किया। हम उन्हें प्रवासी मजदूरों की वीडियो क्लिप भेजेंगे जो महाराष्ट्र छोड़ते समय उद्धव ठाकरे की तारीफ कर रहे थे।’’ शिवसेना नेता ने कहा कि आदित्यनाथ को इस तरह के दावे नहीं करने चाहिए थे। अब उन्हें अपना अधिकांश समय घर लौटे प्रवासी मजदूरों को भोजन-पानी उपलब्ध कराने में लगाना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: योगी के रुख पर राज ठाकरे का पलटवार, कहा- प्रवासियों को महाराष्ट्र में काम करने के लिए लेनी पड़ेगी अनुमति 

राउत ने कहा कि यदि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री चाहते हैं कि राज्यों को उनके प्रदेश के लोगों को रोजगार देने के लिए उनकी अनुमति लेनी चाहिए तो उन्हें यह नहीं भूलना चाहिए कि प्रवासी मजदूर काम की तलाश में महाराष्ट्र आए थे। उन्होंने कहा, ‘‘हमने उन्हें स्वीकार किया और उन्हें यहां काम करने दिया। हमने इन लोगों का ध्यान पिछले एक-डेढ़ महीने में ही नहीं रखा...बल्कि वे वर्षों से यहां काम करते रहे हैं। हम सब सौहार्द के साथ मिलकर रह रहे थे।’’ आदित्यनाथ ने रविवार को कहा था कि लॉकडाउन में कई राज्यों ने प्रवासी मजदूरों की उचित देखरेख नहीं की और यदि कोई राज्य उत्तर प्रदेश के प्रवासी मजदूरों की वापसी चाहता है तो उसे उनकी सरकार से मंजूरी लेनी होगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।