'महाराष्ट्र में घुसने नहीं देंगे, हनुमान चालीसा का पाठ करने पर जान से मार देंगे', नवनीत राणा को फोन पर मिली धमकी

Navneet Rana
ANI
अभिनय आकाश । May 26, 2022 1:50PM
दिल्ली पुलिस ने कहा कि नॉर्थ एवेन्यू थाने में एक एफआईआर दर्ज़ की गई है, जिसमें अमरावती के सांसद नवनीत राणा ने आरोप लगाया है कि उन्हें जान से मारने के लिए कई बार धमकी भरे फोन आ रहे हैं। मामले की जांच की जा रही है।

हाल ही में मातोश्री-हनुमान चालीसा मामले के सिलसिले में मुंबई की अदालत की तरफ से जमानत पर रिहा हुई अमरावती के सांसद नवनीत राणा ने उन्हें जान से मारने की धमकी वाले फोन को लेकर शिकायत दर्ज कराई है। इस संबंध में बुधवार को दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई। दिल्ली पुलिस ने कहा कि नॉर्थ एवेन्यू थाने में एक एफआईआर दर्ज़ की गई है, जिसमें अमरावती के सांसद नवनीत राणा ने आरोप लगाया है कि उन्हें जान से मारने के लिए कई बार धमकी भरे फोन आ रहे हैं। मामले की जांच की जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: ED की रडार पर उद्धव सरकार का एक और मंत्री, सोमैया बोले- जेल जाने के लिए रहे तैयार

उनके निजी सहायक द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के मुताबिक सांसद को उनके निजी मोबाइल नंबर पर मंगलवार शाम 5.27 बजे से शाम 5.47 बजे तक 11 कॉल आए। शिकायत में कहा गया है कि दूसरे छोर पर मौजूद व्यक्ति ने उससे बहुत ही अनुचित तरीके से बात की, उसे गालियां दीं और धमकी भी दी कि अगर वह महाराष्ट्र आईं तो उसे मार दिया जाएगा। शिकायत में कहा गया है कि फोन करने वाले ने अमरावती के सांसद को धमकी दी कि "अगर आप फिर से हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे, तो आपको मार दिया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: पीएम मोदी ने की राष्ट्रीय ब्रॉडबैंड मिशन और आठ परियोजनाओं की समीक्षा

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि शिकायत मिली है और कानूनी कार्रवाई की जा रही है। गौरतलब है कि अप्रैल में नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा ने घोषणा की थी कि वे मुंबई में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के निजी आवास मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे। 23 अप्रैल को, उन्हें मुंबई पुलिस ने मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का जाप करने पर जोर देने के लिए देशद्रोह और समुदायों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने के आरोप में गिरफ्तार किया था। 4 मई को दोनों सांसदों को मामले में मुंबई की एक अदालत ने जमानत दे दी थी। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़