अयोध्या की रामलीला में होंगे रोमांचक Stunt! हवा में उड़ते हुए होगा राम-रावण का युद्ध

अयोध्या की रामलीला में होंगे रोमांचक Stunt! हवा में उड़ते हुए होगा राम-रावण का युद्ध

राम नगरी में 6 अक्टूबर से प्रारंभ हो रही विश्व की सबसे बड़े मंच की अयोध्या की रामलीला जिसमे शामिल 12 बॉलीवुड स्टार और अयोध्या के कलाकार करेंगे मंचन, आयोजन समिति ने कहा 26 भाषाओं में देखेंगे 50 करोड़ से अधिक दर्शक

अयोध्या। राम नगरी अयोध्या में 6 अक्टूबर से प्रारम्भ हो रही अयोध्या की रामलीला को लेकर 130 फुट लंबा मंच तैयार किया जा रहा है। तो वहीं मंचन के दौरान बॉलीवुड इफेक्ट भी दिखाई देंगे। जिसमे उड़ते हुए हनुमान, अदृश्य होने वाले राक्षस व श्री राम रावण का युद्ध होगा। जिसका दृश्य दर्शकों के लिए रोमांचक होगा।

इसे भी पढ़ें: महंत नरेंद्र गिरी की घटना में सबसे पहले कैसे पहुंच गए आईजी के पी सिंह?

अयोध्या के सरयू तट स्थित लक्ष्मण किला के मैदान में 6 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक अयोध्या की रामलीला का आयोजन किया जाएगा। यह रामलीला विश्व की सबसे बड़ी अयोध्या की रामलीला होगी। जिसे दूरदर्शन व अन्य सोशल मीडिया के माध्यम प्रसारित किया जाएगा। इस वर्ष होने वाली रामलीला में 12 से अधिक बॉलीवुड स्टार शामिल हो रहे हैं। तो वही मंचन को भी और भव्यता दिया गया है। जहां मंचन को 130 फुट लंबे तैयार किया जा रहा है। तो वही लंका दहन के लिए 60 फुट लंबे मंच बनाया जा रहा है। जिस पर डिजिटल माध्यम से लंका दहन का प्रसारण होगा। वही रावण दहन के दौरान प्रदूषण मुक्त आतिशबाजी का भी आयोजन होगा।

इसे भी पढ़ें: सरकार की योजना के विरोध में 23 सितंबर को व्यापारियों का प्रदर्शन

अयोध्या की रामलीला आयोजन समिति के अध्यक्ष सुभाष मलिक जानकारी देते हुए बताया कि इस बार अयोध्या में बड़े ही भव्यता के साथ रामलीला का आयोजन किए जाने की तैयारी है। जिसमें बॉलीवुड स्टार के साथ अयोध्या के कलाकारों को भी शामिल किया गया है। इस रामलीला को वर्चुअल के माध्यम से देश-विदेश से लगभग 50 करोड़ से अधिक लोगों तक पहुंचा जाने का लक्ष्य रखा गया है। जबकि पिछली बार 16 करोड़ से अधिक लोगों ने इस रामलीला को देखा था। तो इस बार 26 भाषाओं में रामलीला के मंचन को सोशल मीडिया के माध्यम से दिखाया जाएगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।