पहलवान सुशील कुमार को भारतीय रेलवे ने गिरफ्तारी के बाद नौकरी से किया निलंबित

पहलवान सुशील कुमार को भारतीय रेलवे ने गिरफ्तारी के बाद नौकरी से किया निलंबित

ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार को गिरफ्तारी के बाद एक और झटका लगा है। भारतीय रेलवे ने उन्हें निलंबित कर दिया गया है। पहलवान सुशील कुमार को भारतीय रेलवे ने उनके शानदार प्रदर्शन के बाद रेलवे में नौकरी ऑफर की थी।

ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार को गिरफ्तारी के बाद एक और झटका लगा है। भारतीय रेलवे ने उन्हें निलंबित कर दिया गया है। पहलवान सुशील कुमार को भारतीय रेलवे ने उनके शानदार प्रदर्शन के बाद रेलवे में नौकरी ऑफर की थी। अब सुशील कुमार पर जब तक हत्या का आरोप है तब तक वह रेलवे से निलंबित रहेंगे।  दिल्ली में 23 वर्षीय पहलवान सागर राणा की हत्या के सिलसिले में सुशील को रविवार को गिरफ्तार किए जाने के बाद यह फैसला आया है। सुशील कुमार को उसके सहयोगी अजय कुमार के साथ 6 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। रविवार को दिल्ली के मुंडका में करीब एक हफ्ते तक फरार रहने के बाद उन्हें  पकड़ लिया गया था।

इसे भी पढ़ें: पुडुचेरी में सामने आए कोविड-19 के 1,237 नए मामले, 26 मरीजों की मौत

इंडिया टूडे की खबरों के अनुसार उत्तर रेलवे के एक वरिष्ठ वाणिज्यिक प्रबंधक ने बयान में कहा कि ओलंपिक पदक विजेता कुमार को दिल्ली सरकार ने स्कूल स्तर पर खेल के विकास के लिए छत्रसाल स्टेडियम में एक विशेष कर्तव्य अधिकारी (ओएसडी) के रूप में तैनात किया था। सुशील कुमार को 23 मई, 2021 को अड़तालीस घंटे से अधिक की अवधि के लिए पुलिस हिरासत में रखा गया था। अब इसलिए सुशील कुमार जेएजी / (तदर्थ) आईआरटीएस को हिरासत की तारीख यानी 23 मई से निलंबित माना जाता है, (डी एंड ए) नियम, 1968 के नियम 5 (2) के अनुसार 2021 और अगले आदेश तक निलंबन के अधीन रहेगा।

इसे भी पढ़ें: आपदा काल में चुनावी रणनीति बनाने में व्यस्त है भाजपा: अखिलेश यादव  

पहलवान की मौत के मामले में आरोपी ओलंपिक पुरस्कार विजेता कुश्ती खिलाड़ी सुशील कुमार को दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा के अधिकारी अपराध दृश्य की पुनर्रचना करने की खातिर मंगलवार को छत्रसाल स्टेडियम लेकर गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उल्लेखनीय है कि सुशील कुमार तथा उनके सहयोगी अजय को दिल्ली के मुंडका से रविवार को गिरफ्तार किया गया था। यह मामला संपत्ति को लेकर हुए कथित विवाद से जुड़ा है जिसमें 23 वर्षीय पहलवान की मौत हो गई। अधिकारियों ने बताया कि पुलिस दल सुबह के वक्त अपराध स्थल पर गया था और दोपहर तक वहां से लौट आया। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘‘मामले की जांच कर रही पुलिस की अपराध शाखा के अधिकारियों का दल जांच के सिलसिले में छत्रसाल स्टेडियम गया था।

घटना वाले दिन अपराध किन परिस्थितियों में हुआ यह जानने के लिए तथा अपराध दृश्य की पुनर्रचना करने के लिए सुशील कुमार को भी घटनास्थल पर ले जाया गया।’’ कुमार से सोमवार को भी करीब चार घंटे तक पूछताछ चली थी। अधिकारियों ने बताया कि वे इस मामले की जांच अलग कोण से कर रहे हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने पहले बताया था कि कुमार से घटनाक्रम का पता लगाने के लिए सवाल किए गए, किन हालात में अपराध हुआ यह जानने का प्रयास किया गया और घटना के बाद वह कहां-कहां गए, यह पूछा गया।

अधिकारी ने बताया था, ‘‘सुशील कुमार से उसके सहयोगियों और मित्रों के बारे में सवाल किए गए जिन्होंने घटना के बाद छिपने में उसकी मदद की।’’ उल्लेखनीय है कि चार और पांच मई की दरमियानी रात को छत्रसाल स्टेडियम में कुमार और उनके सहयोगियों के कथित हमले में 23 वर्षीय पहलवान की मौत हो गई और उसके दो दोस्त घायल हो गए थे। घटना के पीछे वजह मॉडल टाउन इलाके में स्थित एक संपत्ति को लेकर हुआ विवाद बताया जा रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।