हालात अगर ऐसे ही बने रहे तो पाकिस्तान से खुद ही अलग हो जायेगा PoK

pok protest
ANI
पीओके में जो हालात हैं वह दर्शा रहे हैं कि गली-गली शहबाज शरीफ सरकार के पुतले फूंके जा रहे हैं, पाकिस्तानी सेना के खिलाफ नारेबाजी की जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वीडियो लोग एक दूसरे को भेज रहे हैं और भारत की प्रगति के बारे में बातें कर रहे हैं।

आटे और अन्य खाद्य पदार्थों की भीषण कमी का सामना कर रहे पाकिस्तान ने इस समय पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के लोगों को भूखे मरने के लिए छोड़ दिया है। पूरे पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में इस समय जिस तरह के विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं वह दर्शा रहे हैं कि पाकिस्तान सरकार इस क्षेत्र पर से अपना कंट्रोल पूरी तरह खोती जा रही है। अगर यहां हालात कुछ और समय ऐसे बने रहे तो पाकिस्तान के और टुकड़े होने से कोई नहीं रोक पायेगा। पीओके में कुछ सामाजिक कार्यकर्ता तो यहां तक मांग कर रहे हैं कि स्थिति और बिगड़ती है तो भारत को हस्तक्षेप करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: आर-पार जोड़ दो, कश्मीर का द्वार खोल दो, भारत के साथ मिलाए जाने को बेताब हैं PoK के लोग

हम आपको बता दें कि पीओके में जो हालात हैं वह दर्शा रहे हैं कि गली-गली शहबाज शरीफ सरकार के पुतले फूंके जा रहे हैं, पाकिस्तानी सेना के खिलाफ नारेबाजी की जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वीडियो लोग एक दूसरे को भेज रहे हैं और भारत की प्रगति के बारे में बातें कर रहे हैं। कुछ मीडिया रिपोर्टों में तो दर्शाया गया है कि प्रदर्शनकारियों को समझाते समय पाकिस्तानी सेना के अधिकारी घबराये हुए दिख रहे थे। जनता का जो गुस्सा इस समय पीओके में दिख रहा है वह किसी भी स्थिति को अंजाम दे सकता है। पाकिस्तानी सेना के अधिकारियों को डर सता रहा है कि पीओके के लोगों की जमीन पर कब्जा कर उन्होंने जो अपने आलीशान मकान बनाये हुए हैं कहीं जनता का गुस्सा उन पर ना फूट जाये इसलिए पाकिस्तानी सेना के अधिकारी सुरक्षाकर्मियों को अपने घरों पर छोड़कर खुद रावलपिंडी या इस्लामाबाद भाग गये हैं।

पीओके में सिर्फ पुरुष ही सड़कों पर हैं, ऐसा नहीं है। महिलाएं भी प्रदर्शन कर बुनियादी जरूरतों की वस्तुओं की कमी के लिए पाकिस्तान की शहबाज शरीफ सरकार को कोस रही हैं। गिलगिट बाल्टिस्तान क्षेत्र के लोग भी सरकार विरोधी प्रदर्शनों में बढ़-चढ़कर भाग ले रहे हैं। हम आपको बता दें कि पीओके का चाहे मुजफ्फराबाद या कोई अन्य इलाका हो या फिर गिलगिट बाल्टिस्तान का क्षेत्र, सभी जगह सरकारी राशन की दुकानें बंद हो चुकी हैं। इस्लामाबाद, लाहौर या कराची या अन्य किसी पाकिस्तानी शहर से कोई खाने-पीने का सामान यहां आ नहीं रहा है जिससे पीओके के लोगों के पास खाने-पीने के सामान की किल्लत होने लगी है। कुछ और दिन आगे से खाने-पीने का सामान नहीं आया तो भूखे मरने की नौबत सच में आ जायेगी। इसलिए लोग सड़कों पर आग बबूला हो रहे हैं और पाकिस्तान से आजादी के नारे लगा रहे हैं। हम आपको यह भी बता दें कि हाल ही में जब शहबाज शरीफ पीओके के दौरे पर आये थे तो स्थानीय लोगों के विरोध के चलते उन्हें अपना संबोधन बीच में ही छोड़कर वापस लौटने पर मजबूर होना पड़ा था।

इसे भी पढ़ें: Pakistan में बढ़ते खाद्य संकट के बीच PoK में सरकार विरोधी प्रदर्शन हुए तेज, भारत के साथ जुड़ने की माँग कर रहे लोग

पीओके के गिलगिट बाल्टिस्तान क्षेत्र के प्रदर्शनकारियों की तो मांग है कि इस क्षेत्र को भारत के केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के साथ मिला दिया जाये। इस क्षेत्र से हाल में जो वीडियो सामने आये हैं उनमें एक में मांग की जा रही है कि कारगिल सड़क को फिर से खोल दिया जाये ताकि यह क्षेत्र लद्दाख के साथ मिल सके। इसके अलावा सिंध में भी लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है। यहां तो लोग खुलेआम भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कटआउट लेकर सड़कों पर नारेबाजी कर रहे हैं। यहां मोदी के कटआउट और उनकी तस्वीरों के साथ प्रदर्शन कर रहे लोगों की मांग है कि सिंध के लोगों को पाकिस्तान से आजादी दिलाने के लिए मोदी मदद करें। सिंध के लोगों के मुंह से मोदी-मोदी के नारे सुनकर पाकिस्तानी सेना का गुस्सा भी फूट पड़ा है। सिंधी नेता जीएम सैयद को उनकी 119वीं जयंती पर श्रद्धांजलि देने गये लोगों पर पाकिस्तानी रेंजर्स और पुलिस ने गोलीबारी कर अपने मन की भड़ास निकाली। जिसके बाद विश्व सिंधी कांग्रेस ने इस घटनाक्रम की निंदा की है।

हम आपको यह भी बता दें कि पीओके में इस समय भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के कई बयान वायरल हो रहे हैं। जिसके आधार पर लोग इस उम्मीद में हैं कि भारत सरकार उनकी मदद के लिए आगे आयेगी। पीओके के लोग सोशल मीडिया पर जिस तरह भारत सरकार से मदद की गुहार लगा रहे हैं उससे पाकिस्तान की कलई भी खुल रही है। गौरतलब है कि पाकिस्तान भारत पर आरोप लगाता रहा है कि वह कश्मीरियों पर अत्याचार करता है जबकि असल में वह खुद पीओके के लोगों पर अत्याचार कर रहा है।

-नीरज कुमार दुबे 

अन्य न्यूज़