हिमा की गैरमौजूदगी के बावजूद AAFI को मिश्रित 4X400 मीटर में अच्छे प्रदर्शन का भरोसा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 20, 2019   16:22
  • Like
हिमा की गैरमौजूदगी के बावजूद AAFI को मिश्रित 4X400 मीटर में अच्छे प्रदर्शन का भरोसा

नायर ने कहा कि अधिक अंतर पैदा नहीं होगा (हिमा के बाहर होने से)। हमें सकारात्मक रहना होगा और हमारा अब भी मानना है कि हम मिश्रित चार गुणा 400 मीटर के फाइनल में जगह बना सकते हैं।

नयी दिल्ली। भारत के उप मुख्य कोच राधाकृष्णन नायर ने गुरुवार को कहा कि स्टार धाविका हिमा दास की गैरमौजूदगी के बावजूद देश की चार गुणा 400 मीटर मिश्रित रिले टीम दोहा विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंच सकती है। विश्व जूनियर चैंपियन हिमा पीठ में चोट के कारण 27 सितंबर से शुरू हो रही विश्व चैंपियनशिप से बुधवार को बाहर हो गईं जिससे भारतीय टीम को झटका लगा है। भारतीय टीम को नई स्पर्धा चार गुणा 400 मीटर मिश्रित रिले से काफी उम्मीदें थी।

इसे भी पढ़ें: विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में हिस्सा नहीं लेंगी हिमा दास

नायर ने कहा कि अधिक अंतर पैदा नहीं होगा (हिमा के बाहर होने से)। हमें सकारात्मक रहना होगा और हमारा अब भी मानना है कि हम मिश्रित चार गुणा 400 मीटर के फाइनल में जगह बना सकते हैं। विश्व चैंपियनशिप की रिले स्पर्धाओं में शीर्ष आठ में रहने वाली टीमें 2020 तोक्यो ओलंपिक के लिए स्वत: क्वालीफाई कर जाएंगे। भारत ने एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने के दौरान तीन मिनट 15.71 सेकेंड के समय के साथ मिश्रित चार गुणा 400 मीटर रिले में 14वें स्थान की टीम के रूप में विश्व चैंपियनशिप के लिए क्वालीफाई किया था। बहरीन की टीम ने स्वर्ण पदक जीता था लेकिन उसके एक धावक के डोपिंग में फंसने के बाद उससे पदक छीन लिया गया।

इसे भी पढ़ें: अमेरिकी कंपनी गेटोरेड ने हिमा दास को बनाया भारत का ब्रांड एंबेसडर

भारत की ओर से इस स्पर्धा में मोहम्मद अनस, राजीव आरोकिया, एमआर पूवम्मा और हिमा दास दौड़े थे। दोहा में हालांकि हिमा और चोटिल राजीव दोनों ही भारत की ओर से हिस्सा नहीं ले पाएंगे। अनस भी व्यक्तिगत 400 मीटर दौड़ में हिस्सा नहीं ले पाएंगे क्योंकि भारतीय एथलेटिक्स महासंघ ने क्वालीफाइंग स्तर हासिल करने के बावजूद उनका नाम इस स्पर्धा के लिए नहीं भेजा है। उनका नाम सिर्फ पुरुष चार गुणा 400 मीटर रिले और मिश्रित चार गुणा 400 मीटर रिले के लिए भेजा गया है।

इसे भी पढ़ें: जुलाई से अब तक हिमा दास ने जीते सात गोल्ड मेडल, 300 मीटर दौड़ में मारी बाजी

इस बीच एथलेटिक्स की वैश्विक संचालन संस्था आईएएएफ ने गुरुवार को इस प्रतियोगिता के लिए अस्थाई प्रवेश सूची जारी की। इस सूची में 26 भारतीयों को जगह मिली है लेकिन उम्मीद के मुताबिक हिमा का नाम इसमें नहीं है। अंजलि देवी को इस सूची में शामिल किया गया है लेकिन उनका प्रतिनिधित्व 21 सितंबर को पटियाला में होने वाले ट्रायल पर निर्भर करेगा। इस बीच पता चला है कि भारतीय खेल औषधि महासंघ के अध्यक्ष डा. पीएसएम चंद्रन ने मई में ही टारगेट ओलंपिक पोडियम योजना(टाप्स) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राजेश राजगोपालन को पत्र लिखकर चोट के बावजूद हिमा के प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेते रहने के जोखिम के बारे में बता दिया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept