फुटबाल कोचिंग की योजना बना रहे हैं पूर्व हॉकी कोच हरेंद्र

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2019   20:17
फुटबाल कोचिंग की योजना बना रहे हैं पूर्व हॉकी कोच हरेंद्र

पचास साल के हरेंद्र ने कहा कि वह फुटबाल के बड़े प्रशंसक हैं और स्पेनिश फुटबाल के छोटे पास देने की ‘टिकी टाका’ शैली को काफी पसंद करते हैं। उनका कहना है कि यह शैली भारतीय हाकी टीम की रणनीति से काफी मिलती जुलती है।

नयी दिल्ली। भारत के पूर्व हॉकी कोच हरेंद्र सिंह के लिए ‘हाकी में कुछ नहीं बचा’ है और अब वह फुटबाल से जुड़ने की योजना बना रहे हैं क्योंकि वह इस ‘खूबसूरत खेल’ को अपने ‘पहले प्यार’ के काफी समान मानते हैं। विश्व कप में भारत के प्रभावहीन प्रदर्शन के बाद पिछले महीने इस अनुभवी कोच को पुरुष टीम के कोच पद से हटा दिया गया था। उन्हें जूनियर टीम से जुड़ने को कहा गया लेकिन उन्होंने इससे इनकार कर दिया।

इसे भी पढ़ें: गत चैम्पियन रेलवे, महिला राष्ट्रीय हॉकी चैम्पियनशिप के शुरूआती दिन जीत दर्ज

हरेंद्र ने साक्षात्कार में कहा, ‘‘हाकी हमेशा मेरा पहला प्यार रहेगा। मैं आज जो कुछ भी हूं हाकी के कारण हूं। लेकिन अब मेरे लिये हाकी में कुछ नहीं बचा है इसलिए मैंने अपनी जानकारी में इजाफा करने का फैसला किया और मेरे दूसरे प्यार फुटबाल से बेहतर क्या हो सकता है।’’ पचास साल के हरेंद्र ने कहा कि वह फुटबाल के बड़े प्रशंसक हैं और स्पेनिश फुटबाल के छोटे पास देने की ‘टिकी टाका’ शैली को काफी पसंद करते हैं। उनका कहना है कि यह शैली भारतीय हाकी टीम की रणनीति से काफी मिलती जुलती है। 

इसे भी पढ़ें: हॉकी मुकाबले में फ्रांस ने भारतीय महिलाओं को रौंदा

उन्होंने कहा, ‘‘मैं फुटबाल का बड़ा प्रशंसक हूं। मैं आर्सेनल और मैनचेस्टर यूनाईटेड (इंग्लिश प्रीमियर लीग) के प्रदर्शन पर करीबी नजर रखता हूं। स्पेन मेरी पसंदीदा अंतरराष्ट्रीय टीम है क्योंकि उनकी छोटे पास की शैली भारतीय हाकी के काफी करीब है।’’ जूनियर हाकी विश्व कप विजेता कोच हरेंद्र पहले ही अपनी नई योजना में मदद के लिए दिल्ली साकर संघ के अध्यक्ष शाजी प्रभाकरन से संपर्क कर चुके हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हाकी और फुटबाल की कोचिंग काफी समान है और मुझे लगता है कि यह आदर्श है कि हाकी और फुटबाल कोच अपनी जानकारी साझा करें। मैं इस ब्रेक का इस्तेमाल फुटबाल में अपने कोचिंग कौशल के विकास के लिए करना चाहता हूं।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।