• ICC के नियमों पर भड़के गौतम गंभीर, बोले- बाउंड्री के आधार पर कैसे हो सकता है फैसला

क्रिकेट विश्व कप इतिहास में पहली बार किसी मैच का निर्णय सुपर ओवर से होने जा रहा था लेकिन वह भी टाई हो गया जिसके बाद सबसे ज्यादा बाउंड्री लगाने वाली टीम को विश्व कप चैंपियन घोषित कर दिया गया और इंग्लैंड ने अपना पहला विश्व कप जीत लिया।

नई दिल्ली। विश्व कप के फाइनल मुकाबले में इंग्लैंड और न्यूजीलैंड ने सभी की सांसे थामी हुई थी और कुछ ऐसा खेल दिखाया जो आज तक क्रिकेट विश्व कप के इतिहास में देखने को नहीं मिला। आखिरी ओवरों में न्यूजीलैंड की खराब किस्मत के चलते मैच सुपर ओवर की तरफ बढ़ गया और 100 ओवर का मैच खेले जाने के बावजूद कोई चैंपियन सामने नहीं आया। भले ही दोनों टीमें अपना पहला विश्व कर जीतने के लिए संघर्ष कर रही थी लेकिन खेले दोनों टीमों ने भरपूर खेला।

इसे भी पढ़ें: सुपर ओवर में मैच ड्रा होने के बाद भी हारा न्यूजीलैंड, जानिए कैसे तय हुआ WC चैंपियन

क्रिकेट विश्व कप इतिहास में पहली बार किसी मैच का निर्णय सुपर ओवर से होने जा रहा था लेकिन वह भी टाई हो गया जिसके बाद सबसे ज्यादा बाउंड्री लगाने वाली टीम को विश्व कप चैंपियन घोषित कर दिया गया और इंग्लैंड ने अपना पहला विश्व कप जीत लिया। हालांकि आईसीसी के इस नियम की जमकर आलोचना भी हुई। टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी गौतम गंभीर ने तो इन नियमों के लिए आईसीसी को जमकर लताड़ा।

इसे भी पढ़ें: चैंपियन बनने से चूकी न्यूजीलैंड, विलियमसन बने मैन ऑफ द टूर्नामेंट

गंभीर ने ट्वीट करते हुए लिखा कि मुझे समझ नहीं आता, कि वर्ल्ड कप फाइनल जैसे इतने महत्वपूर्ण मैच का फैसला सबसे ज्यादा बाउंड्री मारने के आधार पर लिया जा रहा है। गंभीर इतने में ही नहीं रुके और ICC के इन नियमों को हास्यास्पद बताया। उन्होंने कहा कि ये एक टाई होना चाहिए था। मैं न्यूजीलैंड और इंग्लैंड को इस रोमांचक फाइनल के लिए शुभकामनाएं देना चाहता हूं। मेरे हिसाब से दोनों विजेता हैं।