टेनिस में मेरा सफर शानदार रहा है, इतना लंबा करियर होना सौभाग्य की बात: लिएंडर पेस

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jun 2 2019 12:36PM
टेनिस में मेरा सफर शानदार रहा है, इतना लंबा करियर होना सौभाग्य की बात: लिएंडर पेस
Image Source: Google

फ्रेंच ओपन के पहले दौर में पेस और फ्रांस के बेनेट पियरे की जोड़ी ने स्लोवाकिया के मार्टिन क्लिजान और ब्रिटेन के डोमिनिक इंगलोट को 6-4, 6-4 से पराजित किया। पेस और पियरे की जोड़ी हालांकि दूसरे दौर में राबर्ट फराह और जुआन सेबेस्टियन काबल की तीसरी वरीयता प्राप्त कोलंबियाई जोड़ी से 6-0, 4-6, 6-3 से हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो गयी।

पेरिस। लगभग तीस साल से पेशेवर टेनिस खेल रहे भारतीय दिग्गज लिएंडर पेस ने कहा कि इतना लंबा करियर होने पर वह खुद को भाग्यशाली मानते हैं। पेस ने इस दौरान 18 ग्रैंडस्लैम युगल खिताब जीते है और उनके पास 1000 से ज्यादा रैकेटों का संग्रह हैं। पेस दो सप्ताह बाद अपना 46वां जन्मदिन मनाएंगे। फ्रेंच ओपन के पहले दौर में पेस और फ्रांस के बेनेट पियरे की जोड़ी ने स्लोवाकिया के मार्टिन क्लिजान और ब्रिटेन के डोमिनिक इंगलोट को 6-4, 6-4 से पराजित किया। पेस और पियरे की जोड़ी हालांकि दूसरे दौर में राबर्ट फराह और जुआन सेबेस्टियन काबल की तीसरी वरीयता प्राप्त कोलंबियाई जोड़ी से 6-0, 4-6, 6-3 से हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो गयी।

पेस ने पहले दौर के मैच के बाद कहा कि मैं लगभग 30 साल से टेनिस खेल रहा हूं। मैंने पीट संप्रास के जैसे खिलाड़ी को यहां देखा है, मैंने पैट राफ्टर को खेलते हुए देखा है। उन्होंने कहा कि टेनिस में मेरा सफर शानदार रहा है, मैं भाग्यशाली हूं कि इतने लंबे समय से खेल रहा हूं। खासकर यहां (फ्रेंच ओपन) चार बार जीत दर्ज कर। फ्रेंच ओपन में पहली बार 1989 में खेलने वाले लिएंडर पेस ने इंडियन वेल्स क्वालीफाइंग में युवा रोजर फेडरर को भी हराया था।

इसे भी पढ़ें: जोकोविच के इतिहास बनाने के रास्ते में नडाल और फेडरर की चुनौती

उन्होंने कहा कि मेरे पास लगभग 1000 रैकेटों का संग्रह हैं। मेरे पास राड लीवर के अलावा फेडरर, राफेल नडाल, नोवाक जोकोविच, एंडी मर्रे, मार्टिना नवरातिलोवा जैसे चैम्पियन खिलाड़ियों के रैकेट है। नवरातिलोवा के साथ मैंने काफी खेला है। मेरे पास सेरेना विलियम्स, वीनस विलियम्स, मार्टिना हिंगिंस के रैकेट के साथ ब्योर्न बोर्ग का लकड़ी वाला रैकेट है। मेरे पास मेरा पहला रैकेट भी है। पेस ने कहा कि फिलहाल संन्यास लेने की उनकी कोई योजना नहीं है, वह भी तब जब अगले साल ओलंपिक खेल होने है। 



इसे भी पढ़ें: फ्रेंच ओपन: सेरेना की फिटनेस और ओसाका के खराब फॉर्म के कारण हालेप खिताब की दावेदार

अटलांटा (1996) ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाले इस खिलाड़ी कहा कि तोक्यो ओलंपिक में अभी काफी समय है। ओलंपिक में मैंने विश्व रिकार्ड बनाया है। अब एक बार फिर वहां जाना शानदार होगा। उसमें अभी 15 महीने का समय है और इसके लिए मुझे काफी मेहनत करनी होगी। पेस सात बार ओलंपिक खेलों में भाग ले चुके है जो किसी टेनिस खिलाड़ी या किसी भारतीय खिलाड़ी के लिए रिकार्ड है। पेस के पिता भी 1972 में हाकी टीम के साथ कांस्य पदक जीत चुके हैं।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप