• ओमान, स्कॉटलैंड ने टी20 वर्ल्डकप के लिए किया क्वालीफाई, एक की होगी भारत से भिड़ंत!

ओमान के गेंदबाजों ने हालांकि धैर्य बरकरार रखते हुए हांगकांग को नौ विकेट पर 122 रन के स्कोर पर रोक दिया। इससे पहले ओमान की टीम की शुरुआत भी खराब रही। टीम नौ ओवर में 42 रन पर छह विकेट गंवाने के बाद मुश्किल में थी।

दुबई। ओमान ने करो या मरो के क्वालीफायर में हांगकांग को 12 रन से हराकर टी20 विश्व कप के लिए क्वालीफाई किया जबकि स्कॉटलैंड ने भी संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) को 90 रन से हराकर आस्ट्रेलिया में होने वाले टूर्नामेंट में जगह बनाई। ओमान और स्कॉटलैंड से पहले नामीबिया, नीदरलैंड, पपुआ न्यू गिनी और आयरलैंड भी 2020 में होने वाले टी20 विश्व कप के लिए क्वालीफाई कर चुके हैं और यूएई में चल रहे टूर्नामेंट में खिताब जीतने की दौड़ में बने हुए हैं। ओमान के 135 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए हांगकांग की टीम बायें हाथ के तेज गेंदबाज बिलाल खान (23 रन पर चार विकेट) की तूफानी गेंदबाजी के सामने 18 रन पर पांच विकेट गंवाने के बाद संकट में थी।

इसे भी पढ़ें: हमें शाकिब पर आईसीसी जांच की कोई पूर्व जानकारी नहीं थी: बीसीबी प्रमुख

हांगकांग के शीर्ष स्कोरर स्काट मैकेचिनी (46 गेंद में 44 रन) ने इसके बाद हारून अरशद (20) के साथ छठे विकेट के लिए 52 रन जोड़कर पारी को संभाला। ओमान के गेंदबाजों ने हालांकि धैर्य बरकरार रखते हुए हांगकांग को नौ विकेट पर 122 रन के स्कोर पर रोक दिया। इससे पहले ओमान की टीम की शुरुआत भी खराब रही। टीम नौ ओवर में 42 रन पर छह विकेट गंवाने के बाद मुश्किल में थी। सलामी बल्लेबाज जतिंदर सिंह (नाबाद 67, सात चौके और एक छक्का) के अलावा पुछल्ले बल्लेबाजों आमिर कलीम (17) और नसीम खुशी (नौ गेंद में 26 रन) ने उम्दा पारियां खेलकर टीम को चुनौतीपूर्ण स्कोर तक पहुंचाया।

इसे भी पढ़ें: शाकिब अल हसन की हरकत से हैरान हबीबुल बशर, कहा- वापसी नहीं होगी आसान

दूसरी तरफ स्कॉटलैंड ने जार्ज मुन्से की 65 रन की पारी की बदौलत 198 रन बनाए जिसके जवाब में यूएई की टीम 18.3 ओवर में 108 रन पर ढेर हो गई। स्कॉटलैंड की ओर से मार्क वाट और साफयान शरीफ ने तीन-तीन विकेट चटकाए। स्कॉटलैंड की टीम को सात टीमों के ग्रुप में जूझना पड़ा जिसमें टीम चौथे स्थान पर रही। इससे पहले भ्रष्टाचार की जांच में चार खिलाड़ियों के निलंबन के कारण कमजोर हुई मेजबान यूएई की टीम खराब नेट रन रेट के कारण अपने ग्रुप में तीसरे स्थान पर रहते हुए मामूली अंतर से विश्व कप में स्वत: क्वालीफाई करने से चूक गई थी।