• राणा सोढी द्वारा पंजाब के हॉकी खिलाड़ियों को 1-1 करोड़ रुपए का नकद पुरुस्कार देने का ऐलान

ओलंपिक्स में भारतीय पुरुष हॉकी टीम द्वारा इतिहास रचते हुए जर्मनी की मज़बूत टीम को 5-4 से हराकर 41 साल बाद कांस्य पदक जीतने पर खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन से गदगद पंजाब के पंजाब के खेल एवं युवा सेवाएं मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढी ने आज ऐलान किया कि पंजाब सरकार द्वारा राज्य के प्रत्येक हॉकी खिलाड़ी को 1-1 करोड़ रुपए की नकद राशि के साथ सम्मानित किया जायेगा।

चंडीगढ़, 5 अगस्त---ओलंपिक्स में भारतीय पुरुष हॉकी टीम द्वारा इतिहास रचते हुए जर्मनी की मज़बूत टीम को 5-4 से हराकर 41 साल बाद कांस्य पदक जीतने पर खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन से गदगद पंजाब के पंजाब के खेल एवं युवा सेवाएं मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढी ने आज ऐलान किया कि पंजाब सरकार द्वारा राज्य के प्रत्येक हॉकी खिलाड़ी को 1-1 करोड़ रुपए की नकद राशि के साथ सम्मानित किया जायेगा।

भारत की शानदार जीत पर खेल मंत्री ने ट्वीट किया, "भारतीय हॉकी के इस ऐतिहासिक दिन पर मैं पंजाब के खिलाड़ियों को 1-1 करोड़ रुपए के नकद पुरुस्कार का ऐलान करते हुए गर्व महसूस कर रहा हूं। हम ओलंपिक्स में कड़ी मेहनत के साथ प्राप्त किए गए पदक का जश्न मनाने के लिए आपकी वापसी की प्रतीक्षा कर रहे हैं।"उन्होंने कहा कि यह एक कड़ा और रोचक मुकाबला था। हमारे लड़कों ने यह टोक्यो ओलंपिक्स 2020 में कर दिखाया है और 41 सालों के बाद ओलंपिक पदक देश की झोली में डाला है। भारत और पंजाब को टीम की इस शानदार जीत पर गर्व है। राणा सोढी ने बताया कि पंजाब के कुल 20 खिलाड़ियों में से 11 खिलाड़ी भारतीय हॉकी टीम में शामिल हैं।भारत की पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतकर इतिहास रच दिया है। भारत ने जर्मनी को 5-4 से हराकर ओलंपिक में देश के पदक के सूखे को खत्म किया। इस हाईप्रोफाइल मैच में जर्मनी शुरू से ही फेवरेट थी। उन्होंने शुरुआत में ही गोल कर अपने इरादे भी साफ कर दिए। इसके बावजूद टीम इंडिया दबाव में नहीं आई और जर्मनी के हर वार का करारा जवाब दिया।

भारतीय हॉकी टीम ने 41 साल बाद वो करिश्मा कर दिखाया जिसका इंतजार हर भारतीय को था। हालांकि ये इंतजार पंजाब और हरियाणा में ज्यादा था क्योंकि टीम में इन प्रदेशों का ही दबदबा है। गुरुवार सुबह जैसे ही टीम ने जर्मनी को मात दी, दोनों प्रदेशों में जश्न शुरू हो गया। मैच में शुरुआत में पिछड़ने के बाद भारत ने जोरदार वापसी की और जर्मनी के खिलाफ मैच को 5-4 से जीत लिया। इससे पहले आखिरी बार हॉकी में टीम इंडिया ने 1980 में ओलंपिक मेडल जीता था।