इस चमत्कारी झील की मिट्टी शरीर पर लगाने से दूर हो जाती हैं गंभीर बीमारियां, जानें इसके पीछे की कहानी

इस चमत्कारी झील की मिट्टी शरीर पर लगाने से दूर हो जाती हैं गंभीर बीमारियां, जानें इसके पीछे की कहानी

यह रहस्यमई झील पेरू के हुआकाचाइना (Huacachina) में स्थित है। इस झील को ओएसिस ऑफ अमेरिका के नाम से भी जाना जाता है। कहा जाता है कि इसका पानी और मिट्टी में ऐसा जादू है कि इसके पानी में नहाने या फिर शरीर पर इसकी मिट्टी का लेप लगाने से सभी बीमारियां दूर हो जाती हैं।

हमारा पूरा संसार अजूबों और रहस्यों से भरा हुआ है। दुनिया में ऐसी कई अनोखी और रहस्यमयी जगहें हैं जिनके बारे में जानकार लोग दंग रह जाते हैं। इनमें से कई रहस्यों के पीछे की गुत्थी तो वैज्ञानिक भी अभी तक नहीं सुलझा पाए हैं। आप भी जब इन जगहों के बारे में जानेंगे तो सोच में पड़ जाएंगे कि आखिर ऐसा कैसे हो सकता है। भारत के कई ऐसी झीलें हैं, जिनके बारे में कहा जाता है कि यहाँ नहाने से गंभीर बीमारियां ठीक हो जाती हैं। इसके पीछे की असली वजह क्या है, ये तो कोई नहीं जानता। लेकिन पर्यटकों के बीच ये जगहें खूब मशहूर हो रही हैं। आज के इस लेख में हम आपको एक ऐसी झील के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में कहा जाता है कि यहाँ एक जलपरी मौजूद है। ऐसा कहा जाता है कि यह जलपरी यहाँ आने वाले लोगों की बीमारियां दूर कर देती है।

इसे भी पढ़ें: फैमिली ट्रिप के लिए बेस्ट हैं ये 5 जगहें, गर्मियों की छुट्टियों में बच्चों को लेकर जरूर जाएं

यह रहस्यमई झील पेरू के हुआकाचाइना (Huacachina) में स्थित है। इस झील को ओएसिस ऑफ अमेरिका के नाम से भी जाना जाता है। दुनियाभर से पर्यटक यहाँ घूमने आते हैं और इस झील में डुबकी लगाते हैं। इंटरनेट पर मौजूद आंकड़ों के मुताबिक, इस क्षेत्र की कुल आबादी 100 लोगों की है लेकिन यहां हर साल 10 हजार से भी ज्यादा पर्यटक घूमने आते हैं। इस झील के आसपास रेत के ऊंचे टीले भी हैं। इस झील के बारे में ऐसा कहा जाता है कि इसका पानी और मिट्टी में ऐसा जादू है कि इसके पानी में नहाने या फिर शरीर पर इसकी मिट्टी का लेप लगाने से सभी बीमारियां दूर हो जाती हैं। यहां के स्थानीय लोगों के अलावा पर्यटक भी इस झील की मिट्टी का लेप भी शरीर पर लगाते हैं। 

इसे भी पढ़ें: जोधपुर में है देखने लायक कई जगहें, जानिए इस लेख में

इस झील का निर्माण कैसे हुआ इसके पीछे भी एक बहुत दिलचस्प कहानी है। ऐसा कहा जाता है कि यहाँ एक राजकुमारी ने नहाने के लिए अपने कपड़े उतारे तो उसकी नजर अपने शीशे पर पड़ी। राजकुमारी ने देखा कि एक शिकारी उसकी तरफ बढ़ रहा था। जिसके बाद वह वहां से भागने लगी और इसी बीच उसका शीशा वहीं गिर गया। कहा जाता है कि इसी ने एक झील का रूप ले लिया। ऐसा भी कहा जाता है कि जब राजकुमार भाग रही थी तो उससे जो रेत उड़ी उससे झील के पास रेत के टीले बन गए। लोगों का ऐसा भी मानना है कि वह राजकुमारी इसी झील में एक जलपरी के रूप में रहती है और सबकी बीमारियां ठीक कर देती है।

- प्रिया मिश्रा