भड़काऊ भाषण देने वाला शरजील इमाम धर्म के प्रति है कट्टर

भड़काऊ भाषण देने वाला शरजील इमाम धर्म के प्रति है कट्टर

असम और उत्तर पूर्वी राज्यों को भारत से काटने की बात करने वाले शरजील इमाम की गिरफ्तारी के लिए जगह-जगह छापेमारी की गई थी। लेकिन शरजील अपने पैतृक राज्य बिहार से पकड़ा गया।

असम और उत्तर पूर्वी राज्यों को भारत से काटने की बात करने वाले शरजील इमाम की गिरफ्तारी के लिए जगह-जगह छापेमारी की गई थी। लेकिन शरजील अपने पैतृक राज्य बिहार से पकड़ा गया। गिरफ्तारी बिहार के जहानाबाद से हुई फिर उसे दिल्ली लाया गया। दिल्ली पुलिस की एक टीम ने शरजील इमाम को गिरफ्तार करने के बाद जहानाबाद कोर्ट में पेश किया। जहां से कोर्ट ने उसे दिल्ली पुलिस को ट्रांजिट रिमांड पर सौंप दिया। आज के सवाल इसी विषय पर होंगे।

शरजील इमाम पर क्या आरोप हैं?

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने के चलते शरजील इमाम पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज है। दिल्ली समेत कई राज्यों की पुलिस ने शरजील के खिलाफ राजद्रोह का केस दर्ज किया था। दरअसल, शरजील इमाम अपने भड़काऊ भाषण में असम समेत उत्तर पूर्वी राज्यों को भारत से अलग करने की बातें कर रहा था, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और राजनीतिक गलियारों से टिप्पणियां भी आने लगीं...

इसे भी पढ़ें: शरजील इमाम को वकीलों ने दिखाए देशद्रोही के पोस्टर, फांसी देने की मांग की

कौन है शरजील इमाम ?

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद जिले का निवासी बताया जा रहा है और अभी दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय का छात्र है। अभी जेएनयू से शरजील इमाम आधुनिक इतिहास में पीएचडी कर रहा है। इससे पहले इमाम ने आईआईटी बॉम्बे  से कम्प्यूटर साइंस की पढ़ाई की थी और आईआईटी बॉम्बे में असिस्टेंट टीचर भी रह चुका है। 

शरजील इमाम के फेसबुक पेज के मुताबिक वह एक कम्पनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर का भी काम कर चुका है। जेएनयू से पीएचडी करने वाला इमाम आधुनिक इतिहास में यहां से मास्टर्स और एमफिल भी कर चुका है। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आईआईटी से कम्प्यूटर साइंस की पढ़ाई करने के बाद शरजील इमाम नौकरी करने यूरोप चला गया था। हालांकि मोटी पगार पर नौकरी करने वाला शरजील इमाम कुछ वक्त बाद भारत वापस लौट आया था और जेएनयू में अपना एडमिशन करवाकर यहीं पढ़ने लगा था।

इसे भी पढ़ें: अमित शाह ने राहुल गांधी पर साधा निशाना, कहा- भ्रम फैला रहे हैं और लोगों को डरा रहे हैं

क्या इमाम ने पहले भी दिया है भड़काऊ बयान ?

चल रही खबरें बताती हैं कि धीरे-धीरे उसका झुकाव अपने धर्म के प्रति होने लगा। वह पांचों पहर की नमाज अदा करता था और बाद में अपनी पहचान बनाने के लिए भड़काऊ बयानों का सहारा भी लेने लगा था। इस दौरान वह अपने भाषणों के चलते मीडिया में भी छाया रहा। मॉब लिंचिंग, अनुच्छेद 370 जैसे तमाम मुद्दों को भी चर्चा का विषय बनाने में शरजील इमाम की खास भूमिका रही है। 

इतना ही नहीं काफी समय से पुलिस ने शरजील इमाम के सोशल साइट्स पर अपनी नजर बनाए रखी थी। इतना ही नहीं कुछ लोगों का तो मानना है कि शाहीन बाग में हो रहे हंगामे के पीछे शरजील इमाम की ही बनाई गई योजना है। 

भड़काऊ भाषण वाला वीडियो कहां का था ? 

शरजील इमाम के भड़काऊ भाषणों वाला वीडियो अलीगढ़ का बताया जा रहा है। हालांकि इसमें कितनी सच्चाई है यह बता पाना अभी मुश्किल है। जबकि कुछ लोग उसे शाहीन बाग का वीडियो बता रहे हैं। फिलहाल क्राइम ब्रांच की टीम इस मामले की जांच कर रही है। जबकि शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों का कहना है कि जनवरी के पहले हफ्ते की शुरुआत के बाद शरजील इमाम शाहीन बाग के प्रदर्शनों में शामिल नहीं था। 

इसे भी पढ़ें: शरजील ने कन्हैया से ज्यादा खतरनाक शब्द बोले हैं, अब खानी होगी जेल की हवा: अमित शाह

एक और बात आप लोगों को बता देते हैं। शरजील इमाम को जब जहानाबाद से दिल्ली लाया जा रहा था तो पटना एयरपोर्ट में पत्रकारों और पुलिसकर्मियों के बीच भिड़ंत हो गई थी। इसका एक वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है।

इसे भी पढ़ें: भड़काऊ भाषण देने वाले शरजील, जिस पर भिड़े शाह और केजरीवाल, पिता लड़ चुके हैं चुनाव

फिर सामने आया जेएनयू का नाम ?

जेएनयू हिंसा के बाद एक बार फिर से जेएनयू का नाम सभी की जुबान पर चढ़ा हुआ है। इस बार वजह फीस बढ़ोत्तरी नहीं, न ही बाहर से आए गुंडों द्वारा मारपीट का मुद्दा बल्कि मुद्दा था शरजील इमाम का भड़काऊ भाषण... इस भाषण की वजह से जेएनयू की छवि एक बार फिर से धूमिल होती हुई दिखाई दी। जिसके बाद जेएनयू कैंपस की प्रोक्टोरियल कमेटी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए शरजील को नोटिस जारी कर तीन फरवरी तक पेश होने का निर्देश दिए थे। हालांकि वह फरार चल रहा था।