दूल्हे ने कायम की मिसाल, दहेज की रकम लेने से किया इंकार

दूल्हे ने कायम की मिसाल, दहेज की रकम लेने से किया इंकार
प्रतिरूप फोटो

आज की युवा पीढ़ी इस प्रथा से लड़ती हुई नजर आती है। कई बार हम ऐसी खबर पढ़ते हैं, जहां युवक ने दहेज लेने से मना कर दिया है। आज भी हम आपको एक ऐसी ही खबर से रूबरू कराएंगे।

दहेज़ का रिजाव एक ऐसा रिवाज़ है जिसे बुरा भला तो लोग कहते हैं। लेकिन जब खुद के बेटे की शादी हो तो दहेज लेने से बिल्कुल परहेज नहीं करते। दहेज प्रथा जो समाज मे गहरे तक पैठ बना चुकी है पर समाज इस कुरीति से लड़ता हुआ भी दिखाई देता है। आज की युवा पीढ़ी इस प्रथा से लड़ती हुई नजर आती है। कई बार हम ऐसी खबर पढ़ते हैं, जहां युवक ने दहेज लेने से मना कर दिया है। आज भी हम आपको एक ऐसी ही खबर से रूबरू कराएंगे। जहां अपनी शादी में युवक ने दहेज लेने से ये कहते हुए इंकार कर दिया कि उसे अपनी मेहनत पर यकीन है।

इसे भी पढ़ें: केवल लड़ाई-झगड़ा ही नहीं सैफ अली खान और अमृता सिंह के तलाक की यह थी असली वजह? 

क्या है पूरा मामला

मामला राजस्थान के शेखावटी का है। यहाँ एक शादी में दूल्हे ने 5 लाख रूपये की रकम लेने से मना कर दिया ।जो उसे दुल्हन पक्ष की तरफ से दी जा रही थी। सीकर जिले के डलमास गांव के रहने वाले देवेंद्र सिंह शेखावत का विवाह चारु जिले के रतनगढ़ की सोनू कंवर के साथ हुआ है। 

इसे भी पढ़ें: इस महिला ने गाय को माना पति, प्यार में रचाई शादी और बच्चों से कराया यह वादा!

28 नवंबर को दुल्हन पक्ष की ओर से टीके की रश्म की गई थी। जिसमें दूल्हे को 5 लाख दहेज की रकम की पेशकश दुल्हन पक्ष ओर से की गई थी। पर दूल्हे ने रुपये लेने से मना कर दिया। देवेंद्र ने कहा कि समाज की इस बुराई को वो हाथ नहीं लगाएंगे, वो पैसे नही लेंगे। उन्हें अपनी मेहनत पर यकीन है। देवेंद्र ने ऐसा करके समाज को न सिर्फ आईना दिखाया है, बल्कि एक मिसाल पेश की है। उन्होंने कहा समाज की भूल को नई पीढ़ी सुधारने की कोशिश कर रही है। देवेंद्र ने उम्मीद जताई  उनके परिवार से लोग सीख लेंगे और  समाज को सुधारने की दिशा में कदम उठाएंगे।






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

ट्रेंडिंग

झरोखे से...