बलात्कार पीड़िता की पहचान उजागर करने वाले ट्वीट पर बंगाल भाजपा प्रमुख ने मांगी माफी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 14, 2022   10:03
बलात्कार पीड़िता  की पहचान उजागर करने वाले ट्वीट पर बंगाल भाजपा प्रमुख ने मांगी माफी
ANI Images.

मजूमदार ने बीरभूम जिले में पत्रकारों से कहा, “ मेरा ट्विटर अकाउंट संभालने वाली टीम ने गलती की है। (बलात्कार पीड़िता की) पहचान उजागर नहीं की जा सकती है।जब मुझे इसकी जानकारी हुई तो मैंने तत्काल नाम हटवाया। हमने गलती दुरूस्त की और हम इसके लिए माफी चाहते हैं।”

कोलकाकात| पश्चिम बंगाल भाजपा प्रदेश प्रमुख सुकांत मजूमदार ने सोशल मीडिया पर कथित बलात्कार पीड़िता की पहचान उजागर करने की चूक के लिए शुक्रवार को माफी मांगी ली। मजूमदार ने साफ किया कि उनके ट्विटर अकाउंट को संभालने वाली टीम से यह गलती हुई थी और जैसे ही यह उनके संज्ञान में आया, उन्होंने फौरन सुनिश्चित किया कि ट्वीट डिलीट किया जाए।

दक्षिण दिनाजपुर जिले के बारोमाश इलाके में बृहस्पतिवार की रात को एक आदिवासी महिला का शव मिला था। मजूमदार ने सरकार पर हमला करते हुए शव का फोटो ट्वीट किया था और उसकी पहचान जाहिर कर दी थी तथा कहा था कि उसकी बलात्कार के बाद हत्या की गई है।

मजूमदार ने बीरभूम जिले में पत्रकारों से कहा, “ मेरा ट्विटर अकाउंट संभालने वाली टीम ने गलती की है। (बलात्कार पीड़िता की) पहचान उजागर नहीं की जा सकती है।जब मुझे इसकी जानकारी हुई तो मैंने तत्काल नाम हटवाया। हमने गलती दुरूस्त की और हम इसके लिए माफी चाहते हैं।”

उनके ट्विटर अकाउंट पर इस बार महिला की धुंधली तस्वीर पोस्ट की गई है। प्रदेश भाजपा प्रमुख की उनकी असंवेदनशीलता को लेकर आलोचना करते हुए,तृणमूल कांग्रेस के नेता सुखेंदु शेखर रे ने कहा, सुकांत मजूमदार ने जो किया है वह निंदनीय है।जांच चल रही है और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने पहचान जाहिर की है।

यह दिखाता है कि भाजपा नेता कितने लापरवाह हैं। मजूमदार ने दिन के दौरान राज्य की महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करने में विफल रहने के लिए राज्य सरकार की खिंचाई की।

उन्होंनेबीरभूम के तारापीठ मंदिर में दर्शन के बाद कहा, “राज्य भर में जिस तरह से बलात्कार और अत्याचार की घटनाएं सामने आ रही हैं, उससे साबित होता है कि राज्य में कानून-व्यवस्था पूरी तरह से विफल हो चुकी है।

जिस राज्य में एक महिला मुख्यमंत्री हैं, वहां हमारी मां-बहनें सुरक्षित नहीं हैं तो यह यह शर्मनाक है।” शाम को उन्होंने दक्षिण दिनाजपुर जिले में आदिवासी महिला के परिवार के सदस्यों से मुलाकात की और उन्हें हर संभव मदद का आश्वासन दिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।