ऑस्ट्रेलिया में समाचार साझा करने पर प्रतिबंध जल्द हटा लिया जाएगा : फेसबुक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 23, 2021   17:22
ऑस्ट्रेलिया में समाचार साझा करने पर प्रतिबंध जल्द हटा लिया जाएगा : फेसबुक

फेसबुक ने मंगलवार को कहा कि वह आस्ट्रेलिया में समाचारों को साझा करने पर लगाई गई अपनी पाबंदी हटा लेगा। दरअसल, आस्ट्रेलिया के एक प्रस्तावित कानून पर सरकार और फेसबुक के बीच एक समझौता हो गया है। इस कानून के तहत फेसबुक पत्रकारिता के लिए भुगतान करेगा।

कैनबरा। फेसबुक ने मंगलवार को कहा कि वह आस्ट्रेलिया में समाचारों को साझा करने पर लगाई गई अपनी पाबंदी हटा लेगा। दरअसल, आस्ट्रेलिया के एक प्रस्तावित कानून पर सरकार और फेसबुक के बीच एक समझौता हो गया है। इस कानून के तहत फेसबुक पत्रकारिता के लिए भुगतान करेगा। ऑस्ट्रेलिया के वित्त मंत्री जोश फ्राइडनबर्ग और फेसबुक ने इस बात की पुष्टि की है कि वे प्रस्तावित कानून में संशोधन पर सहमत हो गये हैं, जिसके तहत फेसबुक और गूगल अपने मंच पर पर दिखने वाली ऑस्ट्रेलियाई समाचार सामग्री के लिये भुगतान करेंगे।

इसे भी पढ़ें: म्यांमार में सोमवार की बंदी के बाद प्रदर्शन जारी, विदेशी नेताओं ने जताई चिंता

फेसबुक के इस सहयोग को ऑस्ट्रेलिया में एक बड़ी जीत के तौर पर देखा जा रहा है, जिसके तहत दोनों कंपनियां अपने मंच पर साझा की जाने वाली खबरों के लिये भुगतान करेंगी। आस्ट्रेलियाई संसद के निचले सदन ‘हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव्स’ द्वारा बुधवार को एक मसौदा कानून पारित करने के बाद फेसबुक ने पिछले हफ्ते ऑस्ट्रेलियाइयों (फेसबुक यूजर) को उसके मंच पर खबर पढ़ने और साझा करने से रोक दिया था। शुरुआत में फेसबुक न्यूज ने कम से कम अस्थायी तौर पर सरकारी महामारी, जन स्वास्थ्य और आपात सेवाओं तक पहुंच को बाधित किया, जिससे लोगों में काफी नाराजगी थी।

इसे भी पढ़ें: सेंसेक्स और निफ्टी मामूली बढ़त के साथ बंद, ओएनजीसी 6 प्रतिशत चढ़ा

संसद के उच्च सदन सीनेट में मंगलवार को संशोधितविधेयक पर बहस होगी। इसमें संशोधन के जिन बिंदुओं पर सहमति बनी है,उन्हें फ्राइडनबर्ग ने सरकार की मंशा का “स्पष्टीकरण” करार दिया। उन्होंने कहा कि फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जुकरबर्ग के साथ समझौता करना “मुश्किल” था। फ्राइडनबर्ग ने कहा, “इसमें कोई संदेह नहीं कि दुनिया के लिये ऑस्ट्रेलिया एक छद्म युद्ध लड़ रहा है।” देश के ‘न्यू मीडिया बार्गेनिंग कोड’ कानून के संदर्भ में उन्होंने कहा, “फेसबुक और गूगल ने इस तथ्य को नहीं छुपाया कि वे जानते हैं कि दुनिया की निगाहें ऑस्ट्रेलिया पर हैं और इसलिये वे चाहते थे कि यहां ऐसा कोड (संहिता) हो, जो कारगर हो।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।