उद्योग जगत के साथ मंगलवार को वृद्धि की राह पर लौटने का मंत्र साझा करेंगे प्रधानमंत्री मोदी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 31, 2020   17:45
उद्योग जगत के साथ मंगलवार को वृद्धि की राह पर लौटने का मंत्र साझा करेंगे प्रधानमंत्री मोदी

कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिये केंद्र सरकार ने 25 मार्च से देश भर में लॉकडाउन लागू किया जो कि चार चरणों में 31 मई तक चला। उद्योग मंडलसूत्रों ने पीटीआई-को बताया कि प्रधानमंत्री सीआईआई के वार्षिक सत्र में उद्घाटन भाषण देंगे।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को उद्योग संगठन भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के वार्षिक सत्र को संबोधित करेंगे। वह इस संबोधन में भारतीय उद्योग जगत के साथ देश को आर्थिक वृद्धि की राह पर लाने का मंत्र साझा करेंगे। सूत्रों ने इसकी जानकारी दी। प्रधानमंत्री मोदी का यह संबोधन ऐसे समय में होने जा रहा है, जब लॉकडाउन की पाबंदियों में ढील के साथ ही कंपनियां परिचालन शुरू करने लगी हैं और कारखाने खुलने लगे हैं। कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिये केंद्र सरकार ने 25 मार्च से देश भर में लॉकडाउन लागू किया जो कि चार चरणों में 31 मई तक चला। उद्योग मंडलसूत्रों ने पीटीआई-को बताया कि प्रधानमंत्री सीआईआई के वार्षिक सत्र में उद्घाटन भाषण देंगे। वीडियो कन्फ्रेंसिंग के जरिये होने वाला यह कार्यक्रम सीआईआई की स्थापनाके 125 साल पूरा होने का भी अवसर है। उद्योग संगठन की स्थापना 1895 में हुई थी।

इसे भी पढ़ें: कृषि क्षेत्र के सुधार किसानों की आय दोगुनी करने में होंगे कारगर, बंदिशों से मिलेगी निजात: ठाकुर

सीआईआई के 125वें वार्षिक सत्र की मुख्य विषय वस्तु ‘गेटिंग ग्रोथ बैक’यानी वृद्धि की राह पर लौटना है। दिन भर चलने वाले इस आभासी कार्यक्रम में पिरामल समूह के चेयरमैन अजय पिरामल, आईटीसी लिमिटेड के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक (सीएमडी) संजीव पुरी, बायोकॉन की सीएमडी किरण मजुमदार शॉ, भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के चेयरमैन रजनीश कुमार, कोटक महिंद्रा बैंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं सीआईआई के नामित अध्यक्ष उदय कोटक और सीआईआई के अध्यक्ष विक्रम किर्लोस्कर जैसे कॉरपोरेट जगत के शीर्ष प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे।

इसे भी पढ़ें: Lockdown 5: उत्तर प्रदेश के लिए नई गाइडलाइन जारी, जानें क्या खुलेगा और क्या बंद रहेगा

गृह मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि देश में आठ जून से अनलॉक -1 की शुरुआत होगी, जिसके तहत लॉकडाउन की बहुत सारी पाबंदियों को समाप्त किया गया है। जो नयी ढीलें दी गयी हैं, उनमें शॉपिंग मॉल, रेस्तरां और धार्मिक स्थलों को खोलना शामिल है। हालांकि, संक्रमण से प्रभावित क्षेत्रों में 30 जून तक सख्त पाबंदियां लागू रहेंगी। विभिन्न रेटिंग एजेंसियों और अर्थशास्त्रियों ने कोविड-19 संकट और लॉकडाउन के कारण भारत के सकल घरेलू उत्पाद में भारी गिरावट का अनुमान लगाया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।