195 अंक चढ़कर बंद हुआ सेंसेक्स, निफ्टी में भी तेजी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2020   17:12
195 अंक चढ़कर बंद हुआ सेंसेक्स, निफ्टी में भी तेजी

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 67.40 अंक यानी 0.52 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी के साथ 12,926.45 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स में शामिल ओएनजीसी का शेयर सात प्रतिशत लाभ में रहा। इसके अलावा इंडसइंड बैंक, इंफोसिस, टेक महिंद्रा, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचसीएल टेक्नोलॉजीस और टीसीएस भी लाभ में रहे।

मुंबई। शेयर बाजार सोमवार को बढ़त में रहा। सेंसेक्स 195 अंक चढ़कर और निफ्टी 67 अंक लाभमें बंद हुआ। इसकी बड़ी वजह अंतरराष्ट्रीय बाजारों के सकारात्मक रुख और विदेशी पूंजी के प्रवाह के बीच रिलायंस, इंफोसिस और टीसीएस के शेयर में तेजी रही। दिन में 30 कंपनियों के शेयर वाला सूचकांक बीएसई सेंसेक्स 44,271.15 अंक के उच्च स्तर तक पहुंच गया। अंत में 194.90 अंक यानी 0.44 प्रतिशत की तेजी के साथ 44,077.15 अंक पर बंद हुआ। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 67.40 अंक यानी 0.52 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी के साथ 12,926.45 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स में शामिल ओएनजीसी का शेयर सात प्रतिशत लाभ में रहा। इसके अलावा इंडसइंड बैंक, इंफोसिस, टेक महिंद्रा, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचसीएल टेक्नोलॉजीस और टीसीएस भी लाभ में रहे।

इसे भी पढ़ें: सोने की कीमत में आई तेजी, जानें आपके शहर में क्या है भाव?

वहीं दूसरी तरफ एचडीएफसी, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, एसबीआई और महिंद्रा एंड महिंद्रा के शेयर में नरमी रही। आनंदी राठी फर्म में शेयर शोध (आधारभूत) प्रमुख नरेंद्र सोलंकी ने कहा कि वैश्विक बाजारों के सकारात्मक रुख के आधार पर भारतीय बाजार में भी कारोबार बढ़त के रुख पर रहा। कोरोना वायरस के टीके को लेकर बढ़ती उम्मीदों और भावित टीकों के सफल परीक्षणों की खबर ने बाजार को एक नयी उम्मीद दी है। इससे पहले दिन में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने अपने यहां विकसित किए जा रहे कोविड-19 टीके के तीसरे चरण के अंतरिम परिणाम प्रदर्शित किए। तीसरे चरण में उसके टीके को 70.4 प्रतिशत कारगर पाया गया है। एशिया, शंघाई, हांगकांग और सियोल के बाजार भी लाभ में बंद हुए। वहीं यूरोप के बाजारों में शुरू में तेजी का रुझान था। इस बीच ब्रेंट कच्चा तेल भाव 1.64 प्रतिशत बढ़कर 45.81 डॉलर प्रति बैरल पर रहा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।