फार्मेसी के क्षेत्र में हैं अपार संभावनाएं, ऐसे बना सकते हैं कॅरियर

फार्मेसी के क्षेत्र में हैं अपार संभावनाएं, ऐसे बना सकते हैं कॅरियर

फार्मेसी सेक्टर में भी कॅरियर की अपार संभावनाएं हैं। इस क्षेत्र में सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों में कॅरियर के ऑप्शन उपलब्ध हैं। इसके अलावा आप इस फील्ड में खुद का बिजनेस भी शुरू कर सकते हैं।

वर्तमान समय में हेल्थकेयर सेक्टर बहुत तेज़ी से विकास कर रहा है। ऐसे में फार्मेसी सेक्टर में भी कॅरियर की अपार संभावनाएं हैं। इस क्षेत्र में सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों में कॅरियर के ऑप्शन उपलब्ध हैं। इसके अलावा आप इस फील्ड में खुद का बिजनेस भी शुरू कर सकते हैं। आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि आप फार्मेसी सेक्टर में कॅरियर कैसे बना सकते हैं-

इसे भी पढ़ें: कक्षा 11 से लेकर पीएचडी के छात्रों को मिल रही है यह स्कॉलरशिप, पढ़ें विस्तार से

योग्यता 

फार्मासिस्ट बनने के लिए फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्स और बायोलॉजी के साथ 12वीं पास होना जरुरी है। 12वीं के बाद आप फार्मेसी में डिप्लोमा कोर्स (डी फार्म) कर सकते हैं। इसके अलावा आप बारहवीं के बाद फार्मेसी में ग्रेजुएशन डिग्री (बी फार्म) भी हासिल कर सकते हैं। यदि आप बी फार्म करते हैं तो आप उसके बाद फार्मेसी में मास्टर डिग्री (एम फार्म) और डॉक्टर ऑफ फार्मेसी (फार्म डी) भी कर सकते हैं।

कहाँ मिलेगी नौकरी 

फार्मेसी में क्षेत्र में आपको विभिन्न पदों पर नौकरी मिल सकती है -

हॉस्पिटल फार्मेसी 

क्लिनिकल फार्मेसी

टेक्निकल फार्मेसी

रिसर्च एजेंसीज

मेडिकल डिस्पेंसिंग स्टोर

सेल्स ऐंड मार्केटिंग डिपार्टमेंट

एजुकेशनल इंस्टिट्यूट्स

हेल्थ सेंटर्स

मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव

क्लिनिकल रिसर्चर

मार्किट रिसर्च ऐनालिस्ट

मेडिकल राइटर

ऐनालिटिकल केमिस्ट

फार्मासिस्ट

ऑन्कॉलजिस्ट

रेग्युलेटरी मैनेजर

इसे भी पढ़ें: एक्वापॉनिक्स फार्मिंग में है बेहतर भविष्य, ऑर्गनिक फल और सब्जियां उगाकर कमा सकते हैं लाखों

क्या होगी सैलरी

फार्मेसी में डिग्री कोर्स और ट्रेनिंग के बाद बतौर फार्मासिस्ट आपको लगभग 25 हजार रूपए महीने सैलरी मिलती है। वहीं, रिसर्च के क्षेत्र में आपको 40 हजार रुपए तक सैलरी मिल सकती है। अनुभव बढ़ने के साथ-साथ सैलरी भी बढ़कर 40,000 रूपए महीने तक हो सकती है। 

प्रमुख संस्थान

दिल्ली इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मासूटिकल साइंसेज एंड रिसर्च, दिल्ली

जामिया हमदर्द, नई दिल्ली

एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मेसी, नोएडा

कॉलेज ऑफ फॉर्मेसी, दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली

गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली

महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी, रोहतक

गुरु जंभेश्वर विश्वविद्यालय, हिसार, हरियाणा

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फॉर्मासूटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, मोहाली, पंजाब

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मासूटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, चंडीगढ़

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी, वाराणसी

मणिपाल कॉलेज ऑफ फार्मासूटिकल साइंसेज, मणिपाल, कर्नाटक

- प्रिया मिश्रा