खेल रत्न के लिए मिताली और अश्विन के नाम की सिफारिश करेगा बीसीसीआई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 30, 2021   14:08
खेल रत्न के लिए मिताली और अश्विन के नाम की सिफारिश करेगा बीसीसीआई

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने देश के सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न के लिए महिला क्रिकेट की दिग्गज खिलाड़ी मिताली राज और शीर्ष स्पिनर रविचंद्रन अश्विन के नाम की सिफारिश करने का फैसला किया है।

नयी दिल्ली। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने देश के सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न के लिए महिला क्रिकेट की दिग्गज खिलाड़ी मिताली राज और शीर्ष स्पिनर रविचंद्रन अश्विन के नाम की सिफारिश करने का फैसला किया है। अर्जुन पुरस्कार के लिए बोर्ड सीनियर बल्लेबाज शिखर धवन, लोकेश राहुल और तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह का नाम भेजेगा। पिछले साल धवन के नाम की अनदेखी की गई थी। बीसीसीआई के अधिकारी ने बुधवार को पीटीआई को बताया, ‘‘अर्जुन पुरस्कार के लिए किसी महिला क्रिकेटर को नामित नहीं किया गया है।

इसे भी पढ़ें: राहुल गांधी ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा

खेल रत्न के लिए मिताली के नाम की सिफारिश की गई है।’’ यह देखना होगा कि खेल मंत्रालय द्वारा नियुक्त पैनल ओलंपिक वर्ष में मिताली को पुरस्कार के लिए चुनता है या नहीं। मिताली ने पिछले हफ्ते अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 22 साल पूरे किए। यह 38 वर्षीय खिलाड़ी सात हजार से अधिक रन के साथ एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में सबसे सफल बल्लेबाज है। मिताली की तरह ही अर्जुन पुरस्कार हासिल कर चुके अश्विन ने टेस्ट क्रिकेट में भारत के लिए लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है। उन्होंने 79 टेस्ट में 413 विकेट चटकाने के अलावा एकदिवसीय और टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में भी क्रमश: 150 और 42 विकेट चटकाए।

इसे भी पढ़ें: निधन की अफवाहें झूठी लेकिन अस्पताल में भर्ती हुए नसीरुद्दीन शाह, हालत गंभीर

वह हालांकि अब छोटे प्रारूप में भारत के लिए नहीं खेलते। धवन श्रीलंका में सीमित ओवरों की आगामी श्रृंखलाओं में भारत की कप्तानी करेंगे और वह अर्जुन पुरस्कार के प्रबल दावेदार हैं। बायें हाथ के इस बल्लेबाज ने 142 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में 5977 रन बनाने के अलावा टेस्ट क्रिकेट और टी20 मैचों में भारत के लिए क्रमश: 2315 और 1673 रन बनाए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।