4 साल तक प्लेइंग XI से रखा गया था दूर, टीम मैनेजमेंट को गलत साबित कर अब बन रहा जीत का हीरो

4 साल तक प्लेइंग XI से रखा गया था दूर, टीम मैनेजमेंट को गलत साबित कर अब बन रहा जीत का हीरो

टी-20 विश्व कप 2021 के शुरुआती दो मुकाबलों में पाकिस्तान और न्यूजीलैंड से करारी शिकस्त के बाद आर अश्विन की टीम इंडिया में वापसी हुई। विराट कोहली और टीम मैनेजमेंट पर इस बात के लिए भी सवाल उठाए गए कि अहम मुकाबलों में इतने अनुभवी गेंदबाज को आखिर प्लेइंग इलेवन में क्यों नहीं खिलाया गया?

वर्तमान समय में भारतीय टीम के सबसे सीनियर गेंदबाज आर अश्विन अपने प्रदर्शन से सभी का दिल जीत रहे हैं। न्यूजीलैंड के खिलाफ चल रही सीरीज में दूसरे टी-20 मुकाबले में आर अश्विन ने 4 ओवर की गेंदबाजी करके सिर्फ 19 रन दिए और एक महत्वपूर्ण विकेट भी चटकाए। पहले टी-20 मुकाबले में भी आर अश्विन ने शानदार गेंदबाजी करते हुए 23 रन देकर दो विकेट लिए थे। हालांकि यह बात भी सच है कि आर अश्विन की लिमिटेड ओवर क्रिकेट टीम में लगभग 4 साल बाद वापसी हो रही है। विराट कोहली की कप्तानी में आर अश्विन को T20 अंतरराष्ट्रीय मुकाबले कम खेलने का अवसर प्राप्त हुआ। जुलाई 2017 से वह लगातार टीम इंडिया से बाहर थे। हालांकि बीच-बीच में उन्हें टेस्ट क्रिकेट में जरूर देखा जा रहा था लेकिन वह टीम इंडिया के नियमित सदस्य नहीं बन पा रहे थे। 

इसे भी पढ़ें: द्रविड़ की कोचिंग शैली पर टिप्पणी करने को लेकर रविचंद्रन अश्विन ने दिया यह बयान

टी-20 विश्व कप 2021 के शुरुआती दो मुकाबलों में पाकिस्तान और न्यूजीलैंड से करारी शिकस्त के बाद आर अश्विन की टीम इंडिया में वापसी हुई। विराट कोहली और टीम मैनेजमेंट पर इस बात के लिए भी सवाल उठाए गए कि अहम मुकाबलों में इतने अनुभवी गेंदबाज को आखिर प्लेइंग इलेवन में क्यों नहीं खिलाया गया? हालांकि अफगानिस्तान के खिलाफ आर अश्विन की वापसी हुई। उसके बाद से आर अश्विन लगातार भारतीय टीम के लिए शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं। टी-20 मुकाबलों में भी अफगानिस्तान, स्कॉटलैंड और नामीबिया के खिलाफ आर अश्विन ने शानदार गेंदबाजी की। इतना ही नहीं, आर अश्विन ने शानदार इकोनामी रेट से भी गेंदबाजी की।

आर अश्विन का पिछले 5 मैचों में प्रदर्शन

बनाम अफगानिस्तान- 4-0-14-2

बनाम स्कॉटलैंड- 4-0-29-1

बनाम नामीबिया- 4-0-20-3

बनाम न्यूजीलैंड- 4-0-23-2

बनाम न्यूजीलैंड- 4-0-19-1 

2011 के विश्वकप विजेता टीम के हिस्सा रहे आर अश्विन पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के करीबी खिलाड़ियों में से एक थे। धोनी की कप्तानी के दौरान उन्हें टीम इंडिया का ट्रंप कार्ड माना जाता था। आर अश्विन अपनी गेंदबाजी में अलग-अलग वेरिएशंस की वजह से बल्लेबाजों को छकाते रहे हैं। वर्तमान में आर अश्विन ऑफ स्पिन और कैरम बॉल की वजह से बल्लेबाजों को परेशान कर रहे हैं। हालांकि अभी भी आर अश्विन ने अपनी ट्रंप वेरिएशन वाली गेंद को सबके सामने नहीं रखा है। आर अश्विन भारत की ओर से 79 टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 413 विकेट चटकाए जबकि 111 वनडे में 150 विकेट लिए हैं। टी-20 मुकाबलों में उन्होंने 51 मैच में 61 विकेट चटकाए हैं। आर अश्विन आईपीएल के भी महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।